पंचांगीय गणना के अनुसार इस सप्ताह कई ऐसे तीज व त्योहार आ रहे है, जिनका हिंदू मान्यताओं में अधिक महत्व माना गया है. आइए आपको बताते है कि किस दिन किस त्योहार में शुभ फल की प्राप्ति के लिए क्या करें. आइए इस बारे में जानते हैं- ज्योतिषाचार्य पं.अमर अभिमन्यु डब्बावाला से.

गुरुवार 20 अगस्त -रामदेव बीज भादौ द्वितिया कार्य की सफलता के लिए रामदेवरा के यहां यथा योग्य पूजन सामग्री भेंट करें.

शुक्रवार 21 अगस्त- इस दिन हरितालिका तीज, वराह जयंती पर्व मनाया जाएगा. यह दिन कुवांरी कन्याओं के लिए भी शुभ वर की प्राप्ति के लिए शिव पार्वती विवाह के प्रसंग का पाठ तथा पार्वती मंगल स्त्रोत का पाठ एवं विधि-विधान से उपवास करना विशेष फलदायी होगा. इस दिन विवाहित स्त्रियां अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती हैं.

शनिवार 22 अगस्त -गणेश चतुर्थी के चलते गणेश की घर-घर स्थापना होगी. मध्यान्ह काल (दिन में 12 बजे) में मूर्ति स्थापना पंचोपचार पूजन विधि के द्वारा करें. श्री गणेश स्तोत्र का पाठ यथा श्रद्धा 10 दिन तक करें.

रविवार 23 अगस्त- ऋषि पंचमी पर महिलाओं द्वारा किए गए ज्ञात अज्ञात प्रायश्चित के लिए पंचगव्य स्नान तथा आंधी झाड़े के पत्तों का व्रत अनुक्रम रखते हुए उपवास की विधि तथा कथा का श्रवण करना शुभ फलदायी होगा.

सोमवार 24 अगस्त- सूर्य बलदेव छठ, संतान की सुरक्षा तथा उत्तम स्वास्थ्य व दीर्घायु के लिए यथाविधि एकासन का व्रत तथा षष्ठी देवी का पूजन करना उत्तम होगा.

मंगलवार 25 अगस्त- राधाष्टमी महालक्ष्मी का व्रत, इसका आरंभ यथा श्रद्धा लक्ष्मी पाठ तथा राधाष्टकम का पाठ करते हुए भजन कीर्तन करने से प्रेम तथा स्नेह का प्रभाव बढ़ता है, जो परिवार में आवश्यक है.