मडगांव, 19 अप्रैल (भाषा) एफसी गोवा चार दिन के अंदर दो बेहतरीन नतीजे हासिल करने के बाद मंगलवार को यहां एएफसी चैम्पिंयस लीग में पिछले सत्र की उप विजेता और तालिका में शीर्ष पर चल रही पर्सेपोलिस एफसी के खिलाफ फुटबॉल मुकाबले में कड़ी चुनौती के लिये पूरी तरह तैयार रहेगा।

महाद्वीप की शीर्ष स्तर की क्लब प्रतियोगिता में खेलने वाले पहले भारतीय क्लब ने इस प्रतिष्ठित लीग के शुरुआती दो मुकाबलों में अल-रेयास और अल वाहदा के खिलाफ गोलरहित ड्रा खेलकर उम्मीदों से बेहतर प्रदर्शन किया और सभी को हैरान कर दिया।

ईरान के चैम्पियन पर्सेपोलिस एफसी के खिलाफ मुकाबला हालांकि दूसरे ही स्तर का होगा, लेकिन पिछले एक हफ्ते में उनके प्रेरणादायी प्रदर्शन को देखते हुए ऐसा नहीं लगता कि भारतीय क्लब उनकी ख्याति से भयभीत होगा।

एफसी गोवा जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में निश्चित रूप से इस इरादे से उतरेगा कि वह सिर्फ ड्रा के लिये ही नहीं बल्कि जीत के लिये मैदान पर उतर रहा है, भले ही प्रतिद्वंद्वी कितनी ही मजबूत हो और उसका पिछला रिकार्ड कुछ भी हो।

मुख्य कोच जुआन फेरांडो ने गोलकीपर धीरज सिंह की प्रशंसा के पुल बांधे जिन्होंने शानदार प्रदर्शन से संयुक्त अरब अमीरात के अल वाहदा के खिलाफ ग्रुप ई के पिछले मैच में एफसी गोवा को 0-0 के ड्रा से एक अंक दिलाया।

बीस साल के इस खिलाड़ी ने 2017 फीफा अंडर-17 विश्व कप में भी भारतीय टीम में गोलकीपिंग की जिम्मेदारी संभाली थी, उन्होंने कुछ बेहतरीन बचाव किये जिससे फेरांडो ने अपने गोलकीपर को ‘सुपरमैन’ की उपाधि दे दी।

धीरज ने दो मैचों में कुल नौ बचाव किये जिसमें से छह बार उन्होंने अल वाहदा के प्रयासों को विफल किया।

फेरांडो ने अल वाहदा के खिलाफ अपनी टीम के ड्रा के बाद कहा था, ‘‘मुझे लगता है कि वह दूसरे मैच के दिन सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर था। धीरज ने बहुत शानदार बचाव किये। लेकिन एक चीज है कि उसे अपने ‘पासिंग गेम’ में सुधार करने की जरूरत है। वह काफी मेहनती है। ’’

इस समय टीम ग्रुप में पर्सेपोलिस के बाद दूसरे स्थान पर है। पर्सेपोलिस ने अल वाहदा (1-0) और अल रेयान (3-1) के खिलाफ दोनों मैचों में जीत हासिल की है, इसलिये गोवा की टीम को पता है कि उन्हें ईरानी क्लब से कड़ी चुनौती का सामना करना होगा।