मुंबई 19 अप्रैल (भाषा) कोविड-19 के बढ़ते मामलों और देश के कुछ हिस्सों में लॉकडाऊन लगाये जाने की आशंकाओं के चलते निवेशकों की घबराहट बढ़ने से विदेशीमुद्रा विनिमय बाजार में सोमवार को अमेरिकी डालर के मुकाबले रुपया 52 पैसे गिरकर 74.87 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ।

बाजार विश्लेषकों ने कहा कि घरेलू शेयर बाजार में गिरावट आने के कारण भी रुपये को लेकर धारणा प्रभावित हुई। सोमवार को डालर के मुकाबले रुपये का प्रदर्शन एशियाई मुद्राओं के बीच सबसे खराब रहा।

अन्तर बैंक विदेशी विनिमय बाजार में सोमवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 74.80 पर कमजोर खुला और कारोबार के दौरान 75.05 के दिन के निम्न स्तर को छू गया। अमेरिकी डॉलर के कमजोर होने और कच्चे तेल में गिरावट आने से हालांकि, रुपये की गिरावट पर ब्रेक लग गया और अंत में रुपया अपने पिछले बंद भाव के मुकाबले 52 पैसे की गिरावट दर्शाता 74.87 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। शुक्रवार को यह 74.35 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था।

इस बीच, विश्व की छह प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला, डॉलर सूचकांक, 0.49 प्रतिशत की गिरावट के साथ 91.11 रह गया।

बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों पर आधारित सूचकांक सोमवार को 882.61 अंक गिरकर 47,949.42 अंक पर बंद हुआ।

ब्रेंट क्रूड वायदा 0.33 प्रतिशत की गिरावट के साथ 66.55 डॉलर प्रति बैरल पर चल रहा था।

भाषा राजेश

राजेश महाबीर

महाबीर