केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भारत का पहला CNG ट्रैक्टर बाजार में पेश किया है. इसके लोकार्पण में मौजूत केंद्रीय मंत्री ने कहा, यह ट्रैक्टर किसानों को आत्मनिर्भर बनाएगा. इस ट्रैक्टर के द्वारा किसानों को 55% तक की बचत होगी. यह ट्रैक्टर प्रदूषण रहित है. ट्रैक्टर को डीजल से सीएनजी ईंधन वाला बनाया गया है.

नितिन गडकरी ने कहा, हमारे विभाग ने CNG ट्रैक्टर के स्टैंडर्ड निश्चित किए हैं. इसका सर्टिफिकेशन हुआ है. इसके बाद हिन्दुस्तान का कोई भी मैन्युफैक्चरर उस स्टैंडर्ड का इस्तेमाल करके ट्रै्क्टर बना सकता है और मार्केट में ला सकता है, अभी तक कोई स्टैंडर्ड ही नहीं था.

क्या है पारिवारिक पेंशन भुगतान, 45 हजार से बढ़ाकर की गई सवाल लाख रुपये प्रति माह

सरकार ने जानकारी देते हुए कहा कि इससे ईंधन की लागत पर सालाना लगभग एक लाख रुपये तक की बचत की जा सकती है.

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि रावमैट टेक्नो सॉल्यूशंस और टॉमासेटो ऐशिल इंडिया द्वारा संयुक्त रूप से परिवर्तित और विकसित इस ट्रैक्टर से किसानों की लागत कम करने और ग्रामीण भारत में रोजगार के अवसर पैदा करने में मदद मिलेगी.

बयान में कहा गया है कि यह अधिक सुरक्षित है क्योंकि सीएनजी टैंक पर कड़ी सील लगायी गयी है. इससे इसमें ईंधन भरने के दौरान या ईंधन फैलने की स्थिति में विस्फोट खतरा कम होता है.

वहीं, किसानों के लिए कहा गया कि, डीजल की तुलना में सीएनजी में कार्बन उत्सर्जन में 70 फीसदी की कमी होती है. इससे किसानों को ईंधन की ईंधन लागत में भी 50 प्रतिशत तक की बचत होती.

रिटायरमेंट के बाद भविष्य को सुरक्षित करने के लिए खुलवाएं NPS अकाउंट, हर महीने होगी इनकम