वाशिंगटन, 26 मई (एपी) पुलिस कार्रवाई में मारे गए अश्वेत अमेरिकी जॉर्ज फ्लॉयड की पहली पुण्यतिथि पर उसके परिवार ने अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन और उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से मंगलवार को व्हाइट हाउस में मुलाकात कर अपने प्रियजन को गंवाने का दुख जताया और नस्लवाद के खिलाफ कड़े कानून की मांग की।

फ्लॉयड की हत्या के एक साल पूरे होने पर वाशिंगटन में एक ऐसा कानून पारित होने की संभावना है जिससे आपराधिक न्याय को और अधिक न्यायपूर्ण बनाया जा सके।

फ्लॉयड के भाई फिलोनिस फ्लॉयड ने राष्ट्रपति को ‘‘एक सच्चा व्यक्ति’’ बताते हुए कहा, ‘‘मेरे भाई के साथ जो हुआ, यह (कानून) उसकी याद में है।’’

फ्लॉयड के भतीजे ब्रैंडन विलियम्स ने कहा कि बाइडन ने उनसे कहा कि वह चाहते हैं कि विधेयक अर्थपूर्ण हो और इसमें जॉर्ज फ्लॉयड की विरासत बकरार रहे। विलियम्स ने कहा कि बाइडन इस बारे में ‘‘वास्तव में फिक्रमंद’’ थे कि परिवार का हाल कैसा है।

मुलाकात के दौरान बाइडन जॉर्ज फ्लॉयड की बेटी जियाना के साथ खेले। राष्ट्रपति ने बताया कि जब बच्ची ने कहा कि उसे भूख लग रही है तो उसे आइसक्रीम और कुछ स्नैक्स दिए गए।

बाद में वह व्हाइट हाउस के बाहर कैमरों के सामने खड़ी हो गई और प्यार से कहा, ‘‘उनका नाम लीजिए।’’ इस पर परिवार के सदस्यों ने कहा ‘‘जॉर्ज फ्लॉयड।’’

हालांकि, फ्लॉयड की बहन ब्रिगेट फ्लॉयड ने यह कहते हुए वाशिंगटन आने से इनकार कर दिया कि जब विधेयक पर हस्ताक्षर होकर वह कानून का रूप ले लेगा, तभी वह वाशिंगटन आएंगी।

बाद में पत्रकारों से बातचीत में बाइडन ने कहा कि उन्होंने सांसदों से बात की है और ‘‘उम्मीद है कि स्मरण दिवस के बाद हम किसी समझौते पर पहुंच जाएंगे।’’

इससे पहले जॉर्ज फ्लॉयड के परिवार ने सांसदों से भी मुलाकात की। उन्होंने मंगलवार सुबह सदन की डेमोक्रेटिक अध्यक्ष नैंसी पेलोसी और रिपब्लिकन सांसद कारेन बास से मुलाकात की।

गौरतलब है कि पूर्व पुलिस अधिकारी डेरेक चाउविन ने 25 मई 2020 को अपने घुटने से फ्लॉयड की गर्दन को नौ मिनट से अधिक समय तक दबाया था जिससे उसकी मौत हो गई थी। फ्लॉयड की मौत के बाद देशभर में नस्लवाद के खिलाफ प्रदर्शन भड़क उठे थे और दुनियाभर में उसकी हत्या की निंदा की गई थी। इस घटना के बाद से पुलिस में सुधारों की मांग तेज हो गयी। चाउविन पर पिछले महीने हत्या के कई आरोप तय किए गए।