नयी दिल्ली, 26 मई (भाषा) राष्ट्रीय राजधानी में फुटाबॉल की शीर्ष संस्था ‘फुटबॉल दिल्ली’ कोविड-19 महामारी के बीच गंभीर मानसिक स्वास्थ्य चुनौतियों का सामना करने वाले अपनी बिरादरी के लोगों की चिंताओं को दूर करने के लिए 29 मई से 15 अगस्त तक मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ा अभियान चलाएगा।

इस अभियान का नाम ‘माइंड गोल्स’ है।

कोरोना वायरस महामारी के आने के बाद से बड़ी संख्या में लोग गंभीर मानसिक परेशानी का सामना कर रहे है। कोविड-19 ने लोगों के शारीरिक स्वास्थ्य के अलावा उन्हें सामाजिक रूप से अलग रहने पर मजबूर किया है।

फुटबॉल दिल्ली के अध्यक्ष शाजी प्रभाकरण ने कहा, ‘‘ हम इस स्थिति में अपनी फुटबॉल बिरादरी के मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ रहे प्रभाव को लेकर चिंतित हैं। रेफरी, खिलाड़ी, कोच, अधिकारी, प्रशासक, प्रशंसक को मैदान पर खेल की कमी महसूस हो रही है। वे अपनी प्रतिभा का पूरी तरह से उपयोग नहीं कर पा रहे हैं, क्योंकि वे घर में बैठने को मजबूर हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘इसने निराशा और लाचारी की भावना को बढ़ावा दिया है। हम, फुटबॉल दिल्ली में अपने लोगों की इन चुनौतियों से निपटने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’

महामारी ने पृथकवास, दुख, चिंता, अवसाद और समग्र तनाव संबंधी चुनौतियों को बढ़ाया है जिसके परिणामस्वरूप स्वास्थ्य सहायता सेवाओं की मांग में तेजी से वृद्धि हुई है।

प्रभाकरण ने कहा, ‘‘ हम अपनी फुटबॉल बिरादरी में अपने लोगों को मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी सेवाएं प्रदान करके प्रेरित करने की उम्मीद से माइंड गोल्स की शुरुआत कर रहे हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हम इस मुश्किल समय में इस महत्वपूर्ण अभियान को शुरू करने में मदद करने के लिए अपने सभी विशेषज्ञ भागीदारों और व्यक्तिगत तौर पर योगदान करने वालों के प्रति आभार और धन्यवाद व्यक्त करना चाहते हैं। हम लोकनाथ, एमडी रीच स्पोर्ट्स (ब्रिटेन) का असाधारण समर्थन देने के लिए विशेष तौर पर धन्यवाद करते हैं।’’

इस अभियान का मुख्य उद्देश्य मानसिक स्वास्थ्य, मानसिक कल्याण के बारे में फुटबॉल बिरादरी के बीच जागरूकता पैदा करना करने के साथ भविष्य के लिए उम्मीद की भावना जगाने की कोशिश करना है।

भाषा आनन्द पंत

पंत