चाईबासा, 25 मई (भाषा) झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा ने युवा वर्ग से देश को खाद्यान्नों में आत्मनिर्भर बनाने के लिए खेती-बाड़ी से जुड़ने का आह्वान किया है। उन्होंने स्वयं चाईबासा के जगन्नाथपुर स्थित अपने गांव में हल-बैल लेकर खेती प्रारंभ कर दी है।

कोड़ा चार हजार करोड़ रुपये के घोटाले के आरोपों का भी सामना कर रहे हैं।

चाईबासा से कांग्रेस सांसद गीता कोड़ा के पति मधु कोड़ा ने अपने गृह जिले के जगन्नाथपुर ब्लॉक स्थित गांव पताहातू में हल-बैल लेकर खेतों की जुताई प्रारंभ कर दी है। कोड़ा राज्य में मानसून के आगमन से पूर्व धान की रोपाई के लिए अपने खेतों को बैलों की जोड़ी लेकर हल से जोत रहे हैं।

राज्य में वर्ष 2006 से 2008 तक मुख्यमंत्री रहे मधु कोड़ा ने मंगलवार को यहां पत्रकारों से कहा कि वह खाद्यान्न में देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए एक बार फिर से स्वयं खेती-बाड़ी में जुट गये हैं और युवा वर्ग का भी आह्वान करते हैं कि वह देशहित में इस सर्वोत्तम व्यवसाय से बड़ी संख्या में जुड़ें।

पूर्व मुख्यमंत्री कोड़ा ने युवा वर्ग का आह्वान करते हुए कहा, ‘‘आने वाले समय में खाद्य पदार्थों की काफी बड़ी मांग होगी, इसको देखते हुए खाद्य पदार्थों के मामले में देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए युवा वर्ग खेती-बाड़ी जैसे परंपरागत कार्य से जुड़े।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ आज के युग में जहां पढ़-लिख कर युवा वर्ग सीधे नौकरी और अन्य व्यवसाय की ओर रुख कर लेते हैं, उनके लिए मैं संदेश देना चाहता हूं कि पढ़-लिख कर उन्नत तकनीक से खेती, बागवानी और पशुपालन जैसे कार्य से जुड़कर अपने राज्य, समाज एवं राष्ट्र का नाम ऊंचा करें।’’

भाषा, संवाद, इन्दु, रंजन शफीक