महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री शिवाजीराव पाटिल निलांगेकर का बीमारी के कारण बुधवार को यहां निधन हो गया. वह 89 वर्ष के थे. उनके परिवार के सूत्रों ने बताया कि निलांगेकर का यहां एक निजी अस्पताल में निधन हो गया. 

पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि

प्रधानमंत्री के ऑफिस ने शिवाजीराव पाटिल निलांगेकर को श्रद्धांजलि देते हुए ट्विटर पर लिखा, "श्री शिवाजीराव पाटिल निलांगेकर जी महाराष्ट्र की राजनीति के दिग्गज थे. उन्होंने पूरी लगन से राज्य की सेवा की, खासकर किसानों और गरीबों के कल्याण के लिए काम किया. उनके निधन से दुखी हूं. मेरे विचार उनके परिवार और समर्थकों के साथ हैं. ओम शांति:" 

कोरोना से संक्रमित पाए गए थे 

वह हाल में कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे, लेकिन वह बाद में स्वस्थ हो गए थे और जांच में संक्रमित न पाए जाने के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी. मराठावाड़ा क्षेत्र के लातुर से वरिष्ठ कांग्रेस नेता निलांगेकर जून 1985 से मार्च 1986 तक राज्य के मुख्यमंत्री रहे.

निलांगेकर ने अपनी बेटी और उसकी दोस्त ‘‘की मदद के लिए’’ 1985 में एमडी परीक्षा के नतीजों में कथित छेड़छाड़ के आरोप लगने के कारण मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था.