जयपुर, 19 अप्रैल (भाषा) राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन पर निशाना साधते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के पत्र का उनकी ओर से दिया गया जवाब दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय है।

उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री ने जनहित में टीकाकरण के बारे में प्रधानमंत्री को पत्र के जरिये रचनात्मक सुझाव दिया है उसमें उन्होंने सरकार की आलोचना नहीं की है।

गहलोत ने ट्वीट किया है कि लेकिन केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने जिस तरह से मनमोहन सिंह को पत्र लिखा है वह दुर्भाग्यपूर्ण ओर निंदनीय है। उन्होंने कहा कि हर्षवर्धन द्वारा लिखा गया पत्र राजनीति से प्रेरित है।

उन्होंने कहा, ‘‘किसी भी व्यक्ति या राजनीतिक पार्टी द्वारा केन्द्र सरकार को दिये गये किसी भी सुझाव को आलोचना के रूप में माना जाता है। और उसे बर्दाश्त नहीं किया जाता है। ऐसा लगता है कि वे जानते है कि उन्होंने गंभीर गलतियां की है और अपराध बोध ग्रस्त हैं।’’

उल्लेखनीय है कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा था जिसमें उन्होंने टीकाकरण को कोविड-19 महामारी संकट के खात्मे की कुंजी बताया था।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र का जवाब देते हुए कांग्रेस नेताओं पर निशाना साधा है।

भाषा कुंज अर्पणा

अर्पणा