वलसाड (गुजरात), 22 मई (भाषा) गुजरात के वलसाड जिले में अरब सागर के तट पर शनिवार को कम से कम चार शव मिले और पुलिस को संदेह है कि ये बजरा पी 305 के लापता कर्मियों में से कुछ के हो सकते हैं जो सोमवार को चक्रवात ताउते में मुंबई तट के पास डूब गया था।

वलसाड के पुलिस अधीक्षक राजदीपसिंह झाला ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘चारों शवों पर वर्दी और लाइफ जैकेट देखकर ऐसा लगता है कि ये सभी मुंबई तट के पास डूबे बजरे के सदस्यों के हैं।’’

पुलिस ने कहा कि तीन शव तीथल समुद्र तट पर मिले जबकि एक शव दक्षिण गुजरात में जिले के डूंगरी गांव में समुद्र तट पर मिला, जो महाराष्ट्र के करीब है।

झाला ने कहा, ‘‘हमने दुर्घटनावश मौत का एक मामला दर्ज कर लिया है और शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। उनकी पहचान की कोशिश की जा रही है।’’

उन्होंने कहा कि शवों के मिलने के बारे में संदेश नियंत्रण कक्ष के माध्यम से मुंबई और अन्य जगहों पर भेजे जा रहे हैं।

बजरा पी 305, पर सरकारी तेल और गैस कंपनी ओएनजीसी के एक अपतटीय तेल ड्रिलिंग प्लेटफॉर्म के रखरखाव के काम में लगे कर्मी थे। उक्त बजरा तेज गति वाली हवाओं और ऊंची समुद्री लहरों के कारण मुंबई तट के पास सोमवार शाम को डूब गया।

इससे पहले दिन में, नौसेना के एक प्रवक्ता ने कहा कि पी 305 त्रासदी में मरने वालों की संख्या बढ़कर 66 हो गई है क्योंकि दिन में छह और शव बरामद हुए, जबकि नौ कर्मी अब भी लापता हैं।

घटना के समय पी305 पर सवार 261 कर्मियों में से 186 को अब तक बचा लिया गया है और 66 की मौत हो गई है।