देहरादून, 25 मई (भाषा) स्थानीय चिकित्सकों पर दवाब कम करने तथा कोविड-19 की जल्द पहचान और प्रबंधन में मदद के लिए संपर्क फाउंडेशन ने छह राज्य सरकारों के साथ मिलकर मंगलवार को देशभर के शिक्षकों के लिए एक समर्पित नि:शुल्क हेल्थलाइन सेवा शुरू की ।

चिकित्सकों की कमी और अस्पताल जाने में जोखिम को देखते हुए कई शिक्षक चिकित्सकों के पास नहीं जा सकते हैं इसलिए संपर्क फाउंडेशन शिक्षकों के पास चिकित्सकों को लेकर आया है ।

ई—सलाह की इस सेवा का इस्तेमाल करके शिक्षक चिकित्सकों की सलाह का अपने लिए और अपने परिजनों के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं ।

संपर्क फाउंडेशन के इस प्रयास से देश भर के 25 लाख शिक्षक और उनके परिवार जन लाभान्वित होंगे ।

संपर्क फाउंडेशन के अध्यक्ष और एचसीएल के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी विनीत नायर ने इस हैल्थलाइन का आरंभ करते हुए कहा, ' पहले से भी ज्यादा अब शिक्षकों को हमारे सहारे की जरूरत है और जमीनी स्थिति को देखते हुए मुझे उम्मीद है कि शिक्षकों तथा उनके परिवारों के लिए निशुल्क मेडिकल सलाह उपलब्ध कराके सही समय पर रोग की सही पहचान से कई जीवन बचाये जा सकते हैं ।'

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि संपर्क फाउंडेशन हमेशा की तरह एक बार फिर मुश्किल वक्त में राज्य की मदद के लिए आगे आया है । उन्होंने कहा कि इस हेल्थलाइन सेवा से राज्य सरकार के संसाधनों पर निश्चित रूप से दबाव कम होगा ।

संपर्क फाउंडेशन के साथ इस पहल में उत्तराखंड के अलावा छत्तीसगढ, झारखंड, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश शामिल हैं ।

भाषा दीप्ति रंजन

रंजन