10 सितंबर से गणेश चतुर्थी का त्योहार शुरू हुआ है जो 19 सितंबर तक चलेगा. हर ओर गणपति की धूम है और आम लोगों से लेकर भारतीय हस्तियां हर कोई गणपति के उत्सव में डूबा है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, गणपति बप्पा को मीठा बहुत पसंद है और जितने दिन आपके घर वह स्थापित हैं उतने दिन आपको अलग-अलग व्यंजन उन्हें भोग में लगाना चाहिए.

यह भी पढ़ें: Ganesha Chaturthi के 10 दिन में बप्पा को चढ़ाएं ये 10 भोग, गणपति होंगे प्रसन्न

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान गणेश को मोदक से बहुत प्रेम है और ऐसी मान्यता है कि भोग के रूप में 21 मोदक चढ़ाने से बप्पा प्रसन्न होते हैं साथ ही शिव जी भी एक ही समय में तृत्प हो सकते हैं.

खीर: गणेश जी को खीर बहुत पसंद है जिसे आप मखाने की, चावल की या फिर साबुदाने की बना सकते हैं. दूध से बनी खीर की बासुंदी, पाला थालीकालु, पाला अंडरल्लू जैसी रेसिपी बना सकते हैं.

मुरमुरा और गुड़ के लड्डू: गणेश जी को अच्छा भोजन बहुत प्रिय है. जब भगवान गणेश को कुबेर ने भोजन के लिए बुलाया. भगवान भोजन से खुश नहीं थे. ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव ने उन्हें भक्ति के साथ कुछ फूला हुआ चावल देने का सुझाव दिया था. इसके बाद गणेश भगवान की भूख शांत हुई यही कारण है कि मुरमुरा गुड़ से तैयार किए जाने वाले लड्डू भोग लगाए जाते हैं.

यह भी पढ़ें: Ganesh Chaturthi 2021: भगवान गणेश की पूजा करते समय पढ़ें ये मंत्र, बप्पा होंगे प्रसन्न

मोतीचूर के लड्डू: भगवान गणेश जी को मोतीचूर के लड्डू भी खूब पसंद हैं. पौराणिक कथाओं के अनुसार गणेश जी के लड्डू प्रेम का व्याख्यान है. 

मोदक: गणेश जी को सबसे प्रिय मोदक होते हैं, इसलिए उन्हें मोदकप्रिया भी कहते हैं. चावल के आटे, नारियल, गुड़ से बने और पूरी तरह से भाप में पकाए जाते हैं. भक्त अलग-अलग तरह के मोदक तैयार करके प्रसाद के रूप में चढ़ाते हैं.

डिस्क्लेमर: इस लेख में लिखी सभी बातें धार्मिक मान्यताओं पर आधारित हैं. इसकी पुष्टि Opoyi Hindi नहीं करता है. इसपर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञों की राय ले सकते हैं.

यह भी पढ़ें: क्या आप जानते है गणेश चतुर्थी पर चंद्रमा के दर्शन क्यों नही करने चाहिए? जानें वजह