आपका बगीचा कितना भी बड़ा या छोटा क्यों न हो, उस में एक और पौधे लगाने के लिए हमेशा जगह होती है! आप हर वसंत में विभिन्न प्रकार के वार्षिक पौधे लगा सकते हैं या अपने बगीचे को नया और दिलचस्प बनाए रखने के लिए अपने प्लांटर बॉक्स में जो कुछ भी डालते हैं उसे बदल सकते हैं. भारत में होम गार्डनिंग एक तरल अवधारणा है. एक छत, बालकनी या यहां तक कि खिड़कियों पर रखे गमलों में पौधे उगा सकते हैं, और यह सब एक घर के बगीचे के लिए योग्य है. सभी भारतीय घर के बगीचों में एक चीज समान है, वह है मूल पौधों का चुनाव.

यह भी पढ़ेंःGardening Tips: सब्जी के छिलकों से बनाए खाद

चमेली

चमेली अपनी खास सोंधी खुशबू की वजह से जानी जाती है. झाड़ियों और लताओं वाले इसे पौधे में सफेद फूल होते हैं जो सालों भर खिलते हैं. आप इसे गमले, हैंगिंग बास्केट या सीधे जमीन में उगा सकते हैं.

अमलतास

अमलतास को मानसून कैसिया या गोल्डन फ्लावर भी कहा जाता है. इसका महत्व आयुर्वेद में भी है. आप इसे बरसात के मौसम में आसानी से लगा सकते हैं. यह आपके बगीचे को परफेक्ट लुक देगा. बता दें कि यह केरल का राजकीय फूल है.

यह भी पढ़ेंःGardening Tips: घर में लगाएं मसालों की रानी इलाइची का पौधा

कनेर का पौधा

कनेर का पौधा बरसात में आसानी से उग जाता है. लाल, पीले, गुलाबी, बैंगनी, सफेद आदि रंगों वाला ये खुशबूदार पौधा आपकी बगिया का खुशबूदार बनाएगा और इसे मेंटेन करने में भी आपको अधिक समस्या नहीं आएगी. आप इसे बीज की सहायता से घर पर आसानी से उगा सकते हैं.

कॉसमॉस

लाल, गुलाबी, बैंगनी रंग वाले ये खूबसूरत कॉसमॉस के फूल बरसात के मौसम में सबसे बढिया उगते हैं. ये पौध साल भर लगाए जा सकते हैं लेकिन बरसात के मौसम में इसे लगाना बेस्ट होता है. दो से तीन फिट लंबे इस पौधे की अगर थोड़ी सी देखभाल की जाए तो बरसात में आपकी बगिया कई फूलों से भरी रह सकती है.

यह भी पढ़ेंः जंबू है सब जड़ी बूटियों में सबसे खास, जानें वजह और इसके गजब के फायदे