दुनियाभर में कोरोना महामारी तेजी से फैल रही है, ऐसे में सोने की कीमतें भी तेजी से बढ़ रही थीं. मार्च से अगस्त तक सोने की कीमतों में एकतरफा रैली देखने को मिली लेकिन अब सोने की चमक जैसे फीकी पड़ती जा रही है या ये खुशखबरी उन लोगों के लिए भी है जिन्होंने कई सालों से सोने के दाम बढ़ने के  कारण सोना नहीं खरीदा है. सोमवार को भले ही भारतीय शेयर बाजार बंद रहा लेकिन ग्लोबल मार्केट में सोमवार को सोने की कीमत में चाल साल में सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली.

दुनियाभर में कई कंपनियां कोविड-19 वैक्सीन बनाने में जुटी है, जिसमें कई कंपनियां तो आखिरी स्टेज पर पहुंच चुकी है. अगर सबकुछ ठीक रहा तो जल्द ही वैक्सीन हमारे बीच होगी. भारत में पीएम मोदी भी समय-समय पर कोरोना वैक्सीन की अपडेट देते रहते हैं. वैक्सीन की खबर से इकोनॉमी में रिकवरी की उम्मीद बढ़ी जिससे सोने की कीमतों में गिरावट आने लगी. सोमवार को स्पॉट गोल्ड की कीमत 1.2 फीसदी की गिरावट के साथ 17.66.26 डॉलर प्रति औंस हुई. नवंबर में अब तक सोने की कीमत में करीब 6 फीसदी की गिरावट आई है. यह नवंबर, 2016 के बाद की सबसे बड़ी गिरावट मानी जा रही है. वहीं अगर अंतरराष्ट्रीय बाजार की बात करें तो 30 नवंबर को चांदी की कीमतों में भी 3.2 फीसदी की गिरावट दर्ज हुई और यह 21.96 डॉलक प्रति औंस पहुंच गई है. एक तरह से पिछले 4 सालों में नवंबर गोल्ड के लिए सबसे खराब महीना माना जा रहा है. कोरोना संकट की वजह से लोग सोने में निवेश करना चाहते हैं और वैक्सीन की खबर से लोग अब बिकवाली करने में लगे हैं.

सोने ने अपना उच्चस्तर अगस्त के पहले हफ्ते में छुआ था, 7 अगस्त को सोने की कीमत 56,200 रुपये प्रति 10 ग्राम थी. अब सोमवार को दिल्ली सर्राफा बाजार में सोने का दाम 24 कैरेट 51,000 और 22 कैरेट 46,350 रुपये प्रति 10 ग्राम रहा. इस आधार पर सोने की कीमतों में पिछले उच्चस्तर से 8 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम की गिरावट दर्ज हुई.

#GoldPrice #Economy #CoronavirusVaccine