जयपुर, 19 अप्रैल (भाषा) राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कोविड की विपरीत परिस्थितियों के बावजूद राज्य सरकार बाड़मेर के पचपदरा में रिफायनरी परियोजना को जल्द से जल्द पूरा करवाने के लिए प्रतिबद्ध है।

उन्होंने अधिकारियों को परियोजना के निर्माण कार्यो में तेजी लाने के लिए परियोजना की सहभागी कम्पनी हिन्दुस्तान पेट्रोलियम (एचपीसीएल) के साथ सभी स्तर पर आगे बढ़कर सहयोग करने के निर्देश दिए।

गहलोत सोमवार को एचपीसीएल राजस्थान रिफाइनरी लिमिटेड (एचआरआरएल) परियोजना के निर्माण कार्यो की उच्च स्तरीय समीक्षा कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि संभव है कि कोरोना महामारी के कारण इस महत्वाकांक्षी परियोजना के कार्यो पर कुछ प्रतिकूल असर पड़ा हो, लेकिन एचपीसीएल के अधिकारी अपने संसाधनों को बढ़ाकर इसे और अधिक गति दें।

मुख्यमंत्री ने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि राजस्थान के विकास की दृष्टि से इस महत्वपूर्ण परियोजना की एचपीसीएल प्रबंधन द्वारा लगातार गहन मॉनिटरिंग की जा रही है।

गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने-अपने विभागों के स्तर पर लंबित मुद्दों एवं प्रकरणों को परियोजना के अधिकारियों के साथ समन्वय कर जल्द से जल्द निस्तारित करें।

उन्होंने निर्देश दिए कि निर्माण स्थलों पर कोविड प्रोटोकॉल का पूरा पालन किया जाए और किसी भी श्रमिक के संक्रमित पाए जाने पर उन्हें तुरंत चिकित्सकीय सहायता मिले।

राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने एचपीसीएल के अधिकारियों से परियोजना स्थल पर व्यापक पौधारोपण की योजना तैयार करने को कहा। साथ ही कार्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) के तहत स्थानीय आवश्यकता के अनुरूप विकास कार्यों की योजना बनाकर उसे क्रियान्वित करने का सुझाव दिया।

मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने बताया कि रिफाइनरी क्षेत्र में विद्यालय और अस्पताल के लिए एचआरआरएल को भूमि आवंटन, इंदिरा गांधी नहर से पानी, रिफाइनरी क्षेत्र को ‘निषिद्ध क्षेत्र’ घोषित करने, आस-पास के गांवों से सड़क संपर्क तथा जोधपुर में टाउनशिप के लिए उपयुक्त भूमि के आवंटन, कौशल प्रशिक्षण केन्द्र आदि आवश्यकताओं से जुड़ी समस्त प्रक्रियाएं जल्द से जल्द पूरी की जाएंगी।

भाषा कुंज नेत्रपाल जोहेब

जोहेब