नयी दिल्ली, 19 अप्रैल (भाषा) वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को कहा कि उन्होंने देश में कोविड-19 महामारी को लेकर बढ़ी चिंता, दबाव तथा उसकी रोकथाम के लिये विभिन्न उद्योग संगठनों से सलाह ली है। उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र सरकार, राज्यों के साथ मिलकर लोगों की जान और आजीविका बचाने के लिए काम करती रहेगी।

उन्होंने कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर से देश की अर्थव्यवस्था को होने वाले नुकसान से बचने के लिए कारोबारियों से सुझाव भी मांगे।

कोरोना वायरस महामारी के चलते पिछले वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) के दौरान अर्थव्यवस्था में 23.9 प्रतिशत की गिरावट आयी थी।

वित्त मंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘इन व्यवसाय / उद्योग मंडल के प्रमुखों से टेलीफोन पर बात की। उद्योग और उद्योग मंडलों से जुड़े मामलों पर उनकी राय ली। उन्हें बताया कि केंद्र सरकार विभिन्न स्तरों पर कोविड की रोकथाम के लिये कदम उठा रही है। जीवन और आजीविका बचाने के लिए राज्य सरकारों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।’’

वित्त मंत्री ने सीआईआई प्रमुख उदय कोटक, फिक्की के अध्यक्ष उदय शंकर और एसोचैम के अध्यक्ष विनीत अग्रवाल सहित कई उद्योग मंडलों के प्रमुखों से बात की।

इसके अलावा उन्होंने कोविड-19 के बढ़ते मामले के कारण उत्पन्न हालात तथा स्थानीय स्तर पर लगाये जा रहे ‘लॉकडाउन’ को लेकर राय जानने के लिये टाटा स्टील के प्रबंध निदेशक टीवी नरेंद्रन, एलएंडटी के अध्यक्ष ए एम नाइक, टीसीएस के प्रबंध निदेशक राजेश गोपीनाथन, मारुति सुजुकी के चेयरमैन आर सी भार्गव, टीवीएस समूह के चेयरमैन वेणु श्रीनिवासन और हीरो मोटो कॉर्प के प्रबंध निदेशक पवन मुंजाल सहित कई कारोबारी प्रमुखों से भी बात की।

वित्त मंत्री के साथ 18 अप्रैल को टेलीफोन पर बातचीत के बारे में उद्योग मंडल पीएचडी चैंबर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्री (पीएचडीसीसीआई) के अध्यक्ष संजय अग्रवाल ने कहा कि उन्होंने (सीतारमण) कहा कि अस्पतालों में बिस्तर, दवाएं, ऑक्सीजन आदि की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिये सरकार सभी जरूरी कदम उठा रही है।

अग्रवाल के अनुसार वित्त मंत्री ने यह भी कहा कि कोविड-19 टीके का उत्पादन बढ़ाने के लिये तत्काल प्रयास किये जा रहे हैं। साथ ही टीके के आयात की भी व्यवस्था की जा रही है ताकि देश के सभी लोगों के लिये यथाशीघ्र टीका उपलब्ध हो।

उल्लेखनीय है कि वित्त मंत्री ने पिछले हफ्ते साफ किया था कि सरकार बड़े पैमाने पर लॉकडाउन नहीं लगाएगी और सिर्फ कोविड-19 की रोकथाम के लिए स्थानीय स्तर पर रोकथाम का सहारा लिया जाएगा।

भाषा

रमण महाबीर

महाबीर