देश में अलग-अलग राज्यों में कोरोना का संक्रमण सारे रिकॉर्ड तोड़ रहा है. वहीं, अलग-अलग राज्यों में प्रतिबंध लगाने को लेकर तेजी से विचार किया जा रहा है. ऐसे में प्रवासी मजदूर जो अनलॉक होने के बाद दूसरे राज्य काम करने के लिए पहुंचे थे अब फिर घर की ओर निगाहें गराएं हैं. ऐसे में उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने राज्यों के प्रवासी मजदूरों के लिए गाइडलाइन जारी की है. इसमें प्रवासी कामगारों के वापसी से संबंधित प्रोटोकॉल निर्धारित किए गए हैं.

यह भी पढ़ेंः भारत में कोरोना संक्रमण के नए मामलों के टूटे सारे रिकॉर्ड, 24 घंटे में 2 लाख से ज्यादा केस

प्रवासी मजदूरों के लिए प्रोटोकॉल

प्रवासियों के आगमन के बाद जिला प्रशासन के द्वारा उनकी स्क्रीनिंग करायी जाएगी. स्क्रीनिंग में किसी भी प्रकार के लक्षण पाये जाने पर उन्हें क्वॉरंटीन रखा जाएगा. अगर वह संक्रमित पाए गए तो उन्हें कोविड अस्पताल में आइसोलेट किया जाएगा. बिना लक्षण वाले लोगों को 14 दिन के लिए होम क्वॉरंटीन में भेज दिया जाएगा.

यह भी पढ़ेंः जान लें, किन-किन राज्यों में टाली गई है बोर्ड परीक्षाएं

जनपद में पहुंचने के बाद जिला प्रशासन द्वारा यह सुनिश्चित किया जाएगा कि प्रत्येक प्रवासी की स्क्रीनिंग के साथ-साथ पता एवं मोबाइल नंबर सहित लाइन-लिस्टिंग तैयार किया जाए.

आपको बता दें, दिल्ली-महाराष्ट्र समेत अलग-अलग राज्यों से फिर प्रवासी मजदूर अपने-अपने घर की तरफ लौटने लगे हैं.

यह भी पढ़ेंः Board Exams को लेकर CBSE के फैसले के बाद CISCE ने क्या कहा? जानें