Happy Krishna Janmashtami 2021 की बधाई हर कोई अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और अपने किसी खास को भेजेंगे. हिंदू धर्म में जन्माष्टमी के खास मायने होते हैं और लोग इसे खूब धूमधाम के साथ मनाते हैं. हिंदू पंचांग के अनुसार जन्माष्टमी भाद्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है. इस साल जन्माष्टमी का त्योहार खास योग में पड़ा है और विशेषज्ञों के अनुसार इस बार का योग शुभ और मंगलकारी है. ऐसी भी मान्यता है कि इस योग में किये जाने वाले सभी काम सफल होते हैं. श्री कृष्ण को भगवान विष्णु का 8वां अवतार मानते हैं और ऐसी मान्यता है कि उनका जन्म कंस के अत्याचारों को खत्म करने के लिए हुआ था.

यह भी पढ़ें: Janmashtami 2021: इस शुभ मुहूर्त में ही करें जन्माष्टमी की पूजा, बन रहा है खास संयोग

इस दिन भगवान कृष्ण की पूजा की जाती है और उन्हें प्रसन्न करने के लिए भक्त व्रत भी रखते हैं. 30 अगस्त की रात 11 बजकर 59 मिनट से लेकर 12 बजकर 42 मिनट तक इस बार पूजा का शुभ मुहूर्त है. अगर आप भी इस दिन को खास बनना चाहते हैं तो अपने किसी खास दोस्त या रिश्तेदारों को शुभ संदेश भेज सकते हैं और हैप्पी जन्माष्टमी बोल सकते हैं.

जन्माष्टमी पर भेजें अपनों को संदेश | Happy Krishna Janmashtami 2021

1. माखन का कटोरा, मिश्री का थाल

मिट्टी की खुशबू, बारिश की फुहार

राधा की उम्मीदें, कृष्ण का प्यार

मुबारक हो आपको जन्माष्टमी का त्योहार

हैप्पी जन्माष्टमी 2021

2. कृष्ण जिनका नाम,

गोकुल जिनका धाम,

ऐसे श्री कृष्ण भगवान को

हम सब का प्रणाम,

कृष्ण जन्माष्टमी की बधाई

3. पलकें झुकें और नमन हो जाएं,

मस्तक झुके और वंदन हो जाए.

ऐसी नजर कहां से लाऊं, मेरे कन्हैया

आपको याद करूं और आपके दर्शन हो जाएं.

यह भी पढ़ें: जन्माष्टमी महोत्सव पर भगवान श्री कृष्ण को चढ़ाए पंजीरी लड्डू का भोग, बनाने में है बेहद आसान

4. माखन चुराकर जिसने खाया,

बंसी बजाकर जिसने नचाया,

खुशी मनाओ उसके जन्म दिन की,

जिसने दुनिया को प्रेम का रास्ता दिखाया

हैप्पी जन्माष्टमी 2021

5. छीन लूं तुझे दुनिया से  

मेरे बस में नहीं,

मगर मेरे दिल से तुझे कोई निकाल दे,

ये भी किसी के बस में नहीं

जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं.

6. गोकुल में जो करे निवास, गोपियों संग जो खाए रास

देवकी यशोदा जिनकी मैया, ऐसे हमारे कृष्ण कन्हैया

यह भी पढ़ें: Janmashtami 2021: आधी रात को हुआ था भगवान कृष्ण का जन्म, महत्वपूर्ण थी इसकी वजह

7. फूलों में सज रहे हैं श्री वृंदावन बिपिन बिहारी

और संग में सज रही हैं श्री वृषभानु की दुलारी

8. नंद के घर आनंद भयो, जय कन्हैया लाल की

हाथी घोड़ा पाल की जय कन्हैया लाल की

यह भी पढ़ें: Janmashtami 2021: खीरे के बिना क्यों अधूरा होता है श्रीकृष्ण का जन्म? जानें मान्यता

#Janmashtami #SocialMedia