केंद्रीय नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने रविवार को कहा कि सरकार को एयरपोर्ट और एयरलाइनों का संचालन नहीं करना चाहिए. साथ ही, उन्होंने 2020 तक Air India का निजीकरण हो जाने की भी उम्मीद जताई.

उनकी यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब केरल सरकार ने तिरूवनंतपुरम हवाई अड्डे को अडाणी समूह को लीज पर देने के केंद्रीय कैबिनेट के 19 अगस्त के फैसले का विरोध किया है. केंद्रीय कैबिनेट ने अडाणी समूह को 50 वर्षों के लिए सार्वजनिक-निजी भागीदारी (PPP) मॉडल के तहत तिरूवनंतपुरम हवाई अड्डा देने की मंजूरी दी है.

नमो ऐप पर एक डिजिटल बैठक को संबोधित करते हुए पुरी ने कहा, ‘‘मैं आपको दिल से कह सकता हूं कि सरकार को हवाई अड्डों का संचालन नहीं करना चाहिए और सरकार को एयरलाइन का भी संचालन नहीं करना चाहिए.’’

केंद्र सरकार की भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (AAI) के पास देश भर में सौ से अधिक हवाई अड्डों का स्वामित्व है और एएआई ही उनका प्रबंधन संभालती है, जिसमें केरल की राजधानी में स्थित हवाई अड्डा भी शामिल है.

एअर इंडिया के निजीकरण पर पुरी ने कहा कि आकर्षक निविदा मिलने पर हमें इसका निजीकरण कर देना चाहिए. उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि इस वर्ष के दौरान हम निजीकरण प्रक्रिया को पूरा कर पाएंगे.