चंडीगढ़, 26 मई (भाषा) हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बुधवार को कहा कि कोविड-रोधी टीकों की एक करोड़ खुराक और ब्लैक फंगस के इलाज में इस्तेमाल होने वाले एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन की 15,000 शीशियों की खरीद के लिए दो वैश्विक निविदाएं जारी की गई हैं।

विज ने कहा कि केंद्र सभी राज्यों को टीके उपलब्ध करा रहा है, लेकिन अगर विश्व स्तर पर और टीके खरीदे जा सके, तो राज्य जल्द ही सभी पात्र लोगों को टीका लगाने में सक्षम होगा।

एक आधिकारिक बयान के अनुसार, राज्य सरकार ने सभी सरकारी और निजी कॉलेजों में टीकाकरण शिविर लगाने का फैसला किया है ताकि वहां के छात्रों और कर्मचारियों को टीका लगाया जा सके।

विज ने एक ट्वीट में कहा, 'कोविड टीके की एक करोड़ खुराक और एम्फोटेरिसिन की 15000 शीशियों (ब्लैक फंगस के इलाज के लिए प्रयोग होने वाले) की आपूर्ति के लिए दो वैश्विक निविदाएं हरियाणा चिकित्सा सेवा निगम लिमिटेड द्वारा जारी की गई हैं।'

स्वास्थ्य मंत्री ने एक अन्य बयान में कहा कि हरियाणा में कोविड-19 की स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है क्योंकि दैनिक मामलों की संख्या महीने की शुरुआत से ही काफी कम हो गई है।

उन्होंने राज्य सरकार के उस हालिया फैसले का भी जिक्र किया जिसके तहत हरियाणा में कोरोना वायरस के मरीजों को पतंजलि आयुर्वेद के एक लाख कोरोनिल किट मुफ्त में बांटे जाएंगे।

कोरोनिल किट वितरित करने की घोषणा योग गुरु रामदेव की एलोपैथी के खिलाफ की गई टिप्पणियों पर विवाद के बीच हुई है।

विज ने कहा कि कोरोनिल समेत कोई भी दवा जबरन किसी को नहीं दी जा सकती है।

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि एलोपैथी और आयुर्वेद दो अलग-अलग चिकित्सा पद्धति हैं, जो वर्तमान कोविड​​-19 स्थिति से निपटने में योगदान दे रहे हैं।

भाषा कृष्ण नरेश

नरेश