नयी दिल्ली, 19 अप्रैल (भाषा) पिछले दो वर्षों में कई बार डिजिटल बैंकिंग में तकनीकी दिक्कतों का सामना करने वाले एचडीएफसी बैंक ने ग्राहकों को सुरक्षित बैंकिंग सेवाएं मुहैया कराने के लिए ‘प्रौद्योगिकी रूपांतरण एजेंडे’ पर अमल शुरू किया है।

एचडीएफसी बैंक के प्रबंध निदेशक शशि जगदीशन ने कर्मचारियों को लिखे एक पत्र में कहा कि बैंक को पिछले 28 महीनों में तकनीकी बाधा की पांच घटनाओं का सामना करना पड़ा और हर बार ग्राहकों को बेहतर सेवाएं देने के लिए बैंक का संकल्प मजबूत हुआ है।

गौरतलब है कि आरबीआई ने दिसंबर 2020 में एचडीएफसी बैंक को तकनीकी बाधाओं के कारण नई डिजिटल बैंकिंग पहल शुरू करने और नए क्रेडिट कार्ड जारी करने से अस्थायी रूप से रोक दिया था।

आरबीआई ने नकनीकी बाधा के लिए बैंक को दो बार दंडित भी किया।

इसके बाद बैंक ने भविष्य की वृद्धि योजनाओं को आगे बढ़ाने में मदद के लिए नई प्रौद्योगिकी को अपनाने पर जोर दिया।

प्रौद्योगिकी रूपांतरण एजेंडे का ब्यौरा देते हुए जगदीशन ने कहा कि बैंक ने बुनियादी ढांचे में किसी भी लोड को संभालने के लिए भारी निवेश किया है, जो अगले तीन से पांच वर्षों में हो सकता है।

उन्होंने कहा कि बैंक अपनी क्लाउड रणनीति को तेज कर रहा है, ताकि इस क्षेत्र में बढ़त हासिल की जा सके।

उन्होंने कहा कि बैंक ने डाटा सेंटर (डीसी) की निगरानी की प्रक्रिया को मजबूत किया है और नए डीसी के लिए महत्वपूर्ण अनुप्रयोगों को स्थानांतरित कर दिया गया है।

देश में निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक ने कर्मचारियों को भरोसा दिया कि कोविड-19 की चुनौतियों के बावजूद पिछले साल की तरह उनका बोनस, पदोन्नति और वेतन वृद्धि सुरक्षित हैं।