गर्मी का मौसम शुरू हो गया है और ज्यादातर लोग कोल्ड ड्रिंक्स के पीछे भागकर उसे हर दिन पीने की आदत बना लेते हैं. मगर इन सबके बीच हम अपनी सेहत का ख्याल रखना भूल जाते हैं. गर्मी में शरीर को ठंडा रखने और स्वास्थ रहने के लिए कई तरह की चीजों का सहारा लेना पड़ता है. इसमें सबसे ज्यादा जरूरी शरीर का हाइड्रेटेड रखना होता है.

गर्मी में हीट स्ट्रोक यानी लू लगना, डिहाइड्रेशन यानी शरीर में पानी की कमी, ज्वॉइंडिस, सन बर्न, एसिडिटी और बदहजमी जैसी कई बीमारियां हमें घेर लेती हैं अगर हमने सही मात्रा में अपने शरीर को अंदर से ठंडा नहीं रखा तो. इससे बचने के लए आपको गर्मियों में आइसक्रीम, कोल्ड्र डिंक्स या बर्फ से बने पदार्थों के सेवन से अच्छा है इन चीजों का सेवन ज्यादा करना चाहिए.

यह भी पढ़ें- मात्र 9 रुपये में पाएं LPG गैस सिलेंडर, फटाफट उठाएं मौके का फायदा, जानें कैसे?

गर्मियों में करें इन चीजों का सेवन

शिकंजी- नींबू पानी शरीर को हेल्दी भी रखता है और अंदर से ठंडा भी रखता है. नींबू पानी को गर्मियों में ज्यादा से ज्यादा पीना चाहिए इससे आप कई बीमारियों से बच सकते हैं.

आम का पना- गर्मियों का मौसम शुरू होते ही आम का पना रोज पीने से आपको लू कभी नहीं लग सकती है. कच्चे और खट्टे आम, पुदीना, जलजीला पाउडर से आप पना बनाइए और हर दिन पीजिए. इससे आपको कई फायदे हो सकते हैं.

बेल का शरबत- बेल बहुत ही ठंडा फल होता है. कच्चे आम की तरह बेल का शरबत भी आपको लू लगने से बचा सकता है. गर्मियों में बेल का शरबत कई तरह से आपको फिट रख सकता है.

यह भी पढ़ें- क्या आप कराना चाहते हैं फिक्स्ड डिपॉजिट (FD)? यहां जानें कौन सा बैंक कितना दे रहा ब्याज

छाछ- गर्मी के मौसम में पसीना ज्यादा आता है जिसकी वजह से शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स का बैलेंस बिगड़ता है. ऐसे में मसाले वाली छाछ का सेवन आप हर दिन करें, छाछ में शक्कर से ज्यादा नमक फायदा करता है.

तरबूज का जूस- तरबूज तो गर्मियों में रामबाण होता है. इसमें 93 प्रतिशत पानी होता है और अगर आपने इसका जूर पी लिया तो अगर आपने कई घंटो तक पानी नहीं पिया तो कोई नुकसान नहीं होता है. यह आपके शरीर को कई घंटों तक अंदर से ठंडा रख सकता है.

यह भी पढ़ें- क्या EPFO पर नौकरी छोड़ने की तारीख अपडेट करने में आ रही है दिक्कत? इन आसान स्टेप्स में समझें

यह भी पढ़ें- क्या होता है आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड? इन आसान स्टेप्स पर करवाएं 5 लाख तक का बीमा