प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को 'हिंदी दिवस' के अवसर पर देश को बधाई दी और कहा कि विभिन्न क्षेत्रों के लोगों ने भाषा को सक्षम बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. आपके प्रयासों से ही हिंदी विश्व स्तर पर अपनी पहचान मजबूती से स्थापित कर रही है. 1949 में 14 सितंबर के दिन को देश में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा हिंदी को आधिकारिक भाषा के रूप में अपनाया गया था.

पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, "आप सभी को हिन्दी दिवस की ढेरों बधाई. हिन्दी को एक सक्षम और समर्थ भाषा बनाने में अलग-अलग क्षेत्रों के लोगों ने उल्लेखनीय भूमिका निभाई है. यह आप सबके प्रयासों का ही परिणाम है कि वैश्विक मंच पर हिन्दी लगातार अपनी मजबूत पहचान बना रही है."

हिंदी दिवस के दिन केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह विज्ञान भवन में आयोजित 'हिंदी दिवस कार्यक्रम' में शामिल हुए. अमित शाह ने ट्वीट कर कहा, "हिंदी दिवस के अवसर पर मैं सभी देशवासियों से आग्रह करता हूं कि मूल कार्यों में अपनी मातृभाषा के साथ राजभाषा हिंदी का उत्तरोत्तर प्रयोग करने का संकल्प लें. मातृभाषा व राजभाषा के समन्वय में ही भारत की प्रगति समाहित है. आप सभी को ‘हिंदी दिवस’ की हार्दिक शुभकामनाएं." 

पीएम मोदी ने अलीगढ़ में राजा महेंद्र प्रताप सिंह यूनिवर्सिटी की नींव रखी, कही ये बातें

हिंदी दिवस का इतिहास 

भारत की संविधान सभा ने 14 सितंबर, 1949 को हिंदी को भारत की आधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकार किया था. 

आधिकारिक तौर पर, पहला हिंदी दिवस 14 सितंबर 1953 को मनाया गया था. हिंदी को आधिकारिक भाषाओं में से एक के रूप में अपनाने का कारण कई भाषाओं वाले राष्ट्र में प्रशासन को सरल बनाना था.

भाषा को बढ़ावा देने के लिए हर साल हिंदी दिवस मनाया जाता है. हिंदी को बढ़ावा देने के लिए सभी सरकारी कार्यालयों में अंग्रेजी के स्थान पर हिंदी का प्रयोग करने की सलाह दी जाती है. इस दिन देश भर में कई साहित्यिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिनमें लोग हिंदी साहित्य के महान कार्यों का जश्न मनाते हैं.

राजा महेंद्र प्रताप सिंह के बारे में जानें, जिनके नाम पर अलीगढ़ में बन रही है यूनिवर्सिटी