नयी दिल्ली, 26 मार्च (भाषा) रेल मंत्री पीयूष गोयल से बुधवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में योगदान के लिये रेलवे के योगदान को इतिहास हमेशा याद रखेगा ।

पीयूष गोयलल ने क्षेत्रीय रेलवे के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक में यह बात कही । उन्होंने इस दौरान रेल कर्मचारियों की आपूर्ति श्रृंखला बनाये रखने तथा पिछली उपलब्धियों को पीछे छोड़ने के लिये सराहना की ।

मंत्रालय ने गोयल के हवाले से कहा, ‘‘ कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में योगदान के लिये रेलवे के योगदान को इतिहास हमेशा याद रखेगा । राष्ट्रीय आपूर्ति श्रृंखला बनाये रखते हुए इसने यह सुनिश्चित किया है कि प्रगति का पहिया तेज गति से आगे बढ़े । ’’

गोयल ने रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ क्षेत्रीय एवं मंडल रेलवे के परिचालन प्रदर्शन की समीक्षा की । उन्होंने कहा कि पिछले 14 महीने में रेलवे ने कर्तव्यपरायणता और क्षमता का प्रदर्शन किया है और इस समय में मजबूती से खड़ी रही ।

उन्होंने अधिकारियों से बजट में मंत्रालय को पूंजीगत आवंटन का पूरा उपयोग करने तथा आधारभूत संरचना का कार्य पूरा करने का निर्देश दिया ताकि कोविड के चुनौतीपूर्ण समय में रोजगार सृजन हो ।

गोयल ने यह भी कहा कि आक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों ने देश के लिये अभूतपूर्व ढंग से काम किया है और कोविड के खिलाफ लड़ाई में ‘गेमचेंजर’ रहे हैं ।

रेल मंत्रालय के बयान के अनुसार, भारतीय रेलवे सभी बाधाओं को पार करते हुए तथा नए समाधान निकाल कर देश के विभिन्न राज्यों में तरल मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) पहुंचाना जारी रखे हुए है। भारतीय रेलवे द्वारा अभी तक देश के विभिन्न राज्यों में 1080 से अधिक टैंकरों में 17,945 टन तरल मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) पहुंचाई गई है। लगभग 272 ऑक्सीजन एक्सप्रेस गाड़ियों ने अब तक अपनी यात्राएं पूरी कर ली हैं।

मंत्रालय के अनुसार, भारतीय रेल ने कोविड के दौरान असाधारण कार्यकुशलता का प्रदर्शन करते हुए माल ढुलाई में दो अंकों की वृद्धि दर्ज की है। भारतीय रेलवे के लिए मई 2021 के महीने में माल ढुलाई के आंकड़े आय और लदान के मामले में उच्च गति बनाए हुए हैं।

बयान के अनुसार, भारतीय रेल ने सामान्य वर्ष 2019-20 की तुलना में माल लदान में 10 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी दर्ज की।

भारतीय रेलवे ने वित्त वर्ष 2021-22 में 203.88 मिलियन टन (एमटी) का माल लोड किया जो कि वर्ष 2019-20 की समान अवधि के आंकड़े (184.88 एमटी) से 10 प्रतिशत अधिक है।

मंत्रालय ने कहा कि भारतीय रेल की माल ढुलाई मई 2021 में 92.29 एमटी रहा जो मई 2019 (83.84 एमटी) से 10 प्रतिशत अधिक और मई 2020 (64.61एमटी) से 43 प्रतिशत अधिक है।

बयान के अनुसार, मई 2021 में जिन महत्वपूर्ण सामग्रियों को भेजा गया गया उनमें 97.06 मिलियन टन कोयला, 27.14 एमटी लौह अयस्क, 7.89 मिलियन टन खाद्यान्न, 5.34 मिलियन टन उवर्रक, 6.09 मिलियन टन खनिज तेल, 11.11 मिलियन टन सीमेंट (धातु के तलछट को छोड़ कर) तथा 8.2 मिलियन टन धातु के तलछट शामिल हैं।

मंत्रालय के अनुसार, ‘‘ मई 2021 में भारतीय रेल ने माल ढुलाई से 9278.95 रुपए की आय अर्जित की।’’

मंत्रालय ने कहा कि भारतीय रेल ने कोविड-19 का उपयोग अवसर के रूप में किया है ताकि दक्षता और प्रदर्शन में चौतरफा सुधार हो सके।

भाषा दीपक

दीपक अनूप

अनूप