कोरोना वायरस महामारी के दौर में लोगों के हेल्थ पर असर पड़ा है इसके साथ ही उनके वेल्थ पर भी गहरा प्रभाव पड़ा है. कोरोना के दौर में काफी लोगों की नौकरी छूट गई वहीं, वेतन कटौती का भी सामना करना पड़ा है. ऐसे में लोगों के पास पैसों का संकट आ गया है. ऐसी स्थिति में कर्ज लोगों के लिए एक मात्र राहत दे सकती है. लेकिन अगर आपका क्रडिट स्कोर या CIBIL स्कोर ठीक नहीं होगा तो कर्ज भी मिलना मुश्किल हो सकता है.

यह भी पढ़ेंः PF से जुड़ी काम की खबर, बदले नियम में अब इन खाताधारकों के लिए होंगे दो अकाउंट

CIBIL स्कोर वित्तीय संस्थानों द्वारा जाचां जाता है. जब वह आप कर्ज के लिए अनुरोध करते हैं. तो वित्तीय संस्थान सबसे पहले आपका क्रेडिट स्कोर की जांच करता हैं. जानकारों की मानें तो इसमें 700 से ऊपर का स्कोर सबसे बेहतरीन माना जाता है. हालांकि, कुछ बैंकों में अलग-अलग मापदंड होते हैं.

ऐसे में आपके लिए यह जानना जरूरी है कि आपका क्रेडिट स्कोर और क्रेडिट हिस्ट्री क्या है. सही वित्तीय प्रैक्टिस और जागरूकता के साथ, यदि आपका स्कोर कम है तो आप इसे ठीक करने के लिए उचित उपाय कर सकते हैं. आपका क्रेडिट स्कोर ज्यादातर आपके कर्जों को नियमित रूप से चुकाने की आपकी क्षमता पर निर्भर है.

यह भी पढ़ेंः अब आपको दूसरे राज्य में ट्रांसफर नहीं करानी होगी अपनी गाड़ी, जान लें सरकार के नए नियम

ऐसे में आप अपने क्रेडिट स्कोर का हर तीन महीने का ट्रैक रखें - यदि यह 700 से कम है, तो अपने भुगतान को नियमित करने पर काम करें जिसकी मदद से आपका स्कोर बेहतर हो सके.

अगर आपकी आय अनिश्चित या अनियमित हो. तो आप अपने संबंधित क्रेडिट ब्यूरो द्वारा जनरेटेड अपने क्रेडिट स्कोर की निगरानी करें. आदर्श रूप से ये रिपोर्ट दुनिया भर में संचालित चार प्रमुख क्रेडिट ब्यूरो द्वारा तैयार की जाती हैं.

यह भी पढ़ेंः ट्रेन टिकट कैंसिल करने पर रिफंड के लिए नहीं करना होगा इंतजार, IRCTC की खास सर्विस

अगर आपको अच्छा क्रेडिट स्कोर बनाए रखना है तो, जब भी संभव हो, आप क्रेडिट कार्ड कर्ज का पूरा भुगतान करें.

यह भी पढ़ेंः अगर आप काट रहे हैं 50 हजार से ज्यादा का चेक तो जान लें RBI के नियम