कानपुर के मोस्ट वांटेड अपराधी विकास दुबे को मध्य प्रदेश के उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर से गिरफ्तार कर लिया गया है. उस पर 8 पुलिसवालों की हत्या का आरोप है. 3 जुलाई को जब कानपुर स्थित उसके घर पर पुलिस दबिश करने पहुंची तो विकास दुबे की ओर से ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू हो गई, जिसमें 8 पुलिसवाले शहीद हो गए और कई घायल हैं.

ANI ने विकास दुबे की गिरफ्तारी का एक वीडियो जारी किया है, जिसमें वह पुलिसवालों की गिरफ्त में ही चिल्लाता दिख रहा है कि मैं विकास दुबे हूं, कानपुर वाला. इसके बाद पुलिसवाले जबरदस्ती उसे चुप कराते दिख रहे हैं.

उत्तर प्रदेश पुलिस को दिल्ली के निकट फरीदबाद में विकास दुबे की मौजूदगी का सुराग मिला था. विकास दुबे पांच जुलाई को ही फरीदाबाद पहुंच गया था. वह पहले न्यू इंदिरा नगर कॉम्प्लेक्स में अपने रिश्तेदार अंकुर के पास ठहरा. बाद में वह किसी होटल में रहने चला गया. लेकिन जब पुलिस छापेमारी करने पहुंची तो विकास दुबे वहां से फरार हो चुका था. वहीं, पुलिस ने विकास दुबे पर लगातार इनाम बढ़ाते हुए 50 हजार से 2.5 लाख और फिर 5 लाख कर दिया था.

दुबे हिस्ट्री शीटर अपराधी है. उस पर 60 केस दर्ज हैं. इनमें हत्या, डकैती और अपहरण के मामले शामिल हैं. उस पर 2001 में भारतीय जनता पार्टी के नेता और राज्यमंत्री संतोष शुक्ला की पुलिस स्टेशन में हत्या का आरोप भी है.