अगर आपका बैंक खाता इलाहाबाद बैंक में है तो यह खबर आपके लिए बेहद जरूरी है. आपको बता दें कि बैंकों का विलय होने के कारण अकाउंट होल्डरो के अकाउंट नंबरों, IFSC और MICR कोड में बदलाव किए जा रहे हैं. आने वाली अक्टूबर की 1 तारीख से बैंकिंग सिस्टम पुराने चेक को रिजेक्ट कर देगा. ऐसे में खाताधारक जल्दी से चेक बुक बदलवा लें. बैंक ग्राहकों को सलाह दी गई है कि वह जल्दी से अपनी शाखा में जाएं और चेक बुक के लिए आवेदन करें.

यह भी पढ़ें: अक्टूबर की पहली तारीख से बदल रहा ये नियम, डेबिट-क्रेडिट कार्ड और UPI से भुगतान करने वाले जान लें

बैंक ने किया ट्वीट

बैंक ने ट्वीट कर कहा , "आवश्यक सूचना! पूर्ववर्ती इलाहाबाद बैंक के ग्राहकों के पुराने चेक 1 अक्टूबर 2021 से भुगतान के लिए स्वीकार नहीं किए जाएंगे , आप से अनुरोध है कि कृपया निर्बाध बैंकिंग के लिए इंडियन बैंक की नई चेक बुक प्राप्त करें".

1 अक्टूबर से इलाहाबाद बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया की चेक बुक और एमआईसीआर कोड अमान्य होने जा रहे हैं.

किन-किन बैंकों का हुआ विलेह?

आपको बता दें कि इलाहाबाद बैंक का विलह इंडियन बैंक में हो चुका है. 1 अप्रैल 2020 से यह प्रभाव में आया था. वहीं अगर बात करें ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया की तो उनका विलय पंजाब नेशनल बैंक में हुआ था जो 1 अप्रैल 2019 से प्रभाव में आया था.

यह भी पढ़ेंः 1 अक्टूबर से बदल जाएंगी LPG की कीमतें? जानें क्या-क्या होने हैं बदलाव

बैंकों की तरफ से जानकारी

बैंकों द्वारा जानकारी दी गई है कि पुराने एमआईसीआर कोड और चेक बुक 30 सितंबर तक ही मान्य रहेंगी. 1 अक्टूबर 2021 से पुराने एमआईसीआर कोड और चेक बुक की कोई वैल्यू नहीं बचेगी. बिना किसी रूकावट के बैंकिंग ट्रांजैक्शन जारी रखने के लिए खाताधारक 1 तारीख से पहले नई चेक बुक के लिए आवेदन कर दें.

नई चेक बुक कैसे करें अप्लाई?

आज के समय में ग्राहक के पास काफी ज्यादा ऑप्शन मौजूद है. ग्राहक चाहे तो ब्रांच में जाकर चेक बुक के लिए अप्लाई कर सकता है या फिर घर बैठे इंटरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से भी अप्लाई कर सकता है. पीएनबी के ग्राहक अपने एटीएम कार्ड , इंटरनेट बैंकिंग , या pnb1 की मदद से चेक बुक अप्लाई कर सकते हैं.

इन बैंकों के सभी ग्राहकों को किसी भी ऑनलाइन बैंकिंग लेन-देन की सुविधा का इस्तेमाल करने के लिए अपने पुराने आईएफएससी कोड को बदलना होगा. अकाउंट होल्डर्स बताए गए बैंकों से या उनके लिए ऑनलाइन बैंक ट्रांसफर करना चाहते हैं तो उन्हें ऑनलाइन बैंकिंग वेब पोर्टल से पेयी की लिस्ट से बेनिफिशियरी को हटाना होगा.

यह भी पढ़ेंः Post Office की इस स्कीम में 10 हजार के निवेश पर मिलेंगे 16 लाख, जानें डिटेल