बड़े कामों को निपटाने के लिए लोगों को एक मुश्त पैसे की जरूरी होती है यानी की एक बड़ा अमाउंट की आवश्कता होती है. ऐसे में लोगों के पास पर्सनल लोन लेने का अच्छा और आसान विकल्प है. हालांकि, कुछ कारणों से आपको लिए लोन लेना मुश्किल हो जाता है और आपका पर्सनल लोन रिजेक्ट हो जाता है. लेकिन अगर आप पहले से कुछ बातों का ध्यान रखेंगे तो पर्सनल लोन लेने के समय या भविष्य में कभी भी लोन लेते वक्त आपको परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा. आपका लोन तुरंत अप्रुव हो इसके लिए 5 बातों का ध्यान रखना जरूरी है

यह भी पढ़ेंः होम लोन लेने के लिए रखें 5 बातों का ध्यान, पहले करेंगे तैयारी तो नहीं होगी परेशानी

क्रडिट स्कोर का रखें ध्यान

क्रेडिट स्कोर जिसे आप सिविल स्कोर भी कहते हैं इससे किसी भी शख्स के क्रेडिट हिस्ट्री के बारे पता चलता है. पर्सनल लोन लेने के समय कोई भी बैंक या फाइनेंस कंपनी सबसे पहले आपका क्रेडिट स्कोर चेक करती है. अगर ये अच्छा होता है तो लोन तुरंत अप्रुव हो जाता है. क्रेडिट स्कोर 300 से 900 तक की रेंज में होता है और अगर आपका स्कोर 700 हो तो कर्ज देने वाले इसे अच्छा मानते हैं. क्रेडिट स्कोर आपके पिछले लोन या आप अगर क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल करते हैं तो इसके पेमेंट के तरीकों पर निर्भर करता हैं. अगर आप नियमित और अनुशासित रूप से क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा होता है. अगर ने क्रेडिट कार्ड यूजर है तो आप इसे अनुशासित रूप से इस्तेमाल करें. यानी आप अपने क्रेडिट कार्ड बिल का भुगातान या किसी अन्य लोन का भुगतान समय से करें तो आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा बना रहेगा.

यह भी पढ़ेंः लोन लेना चाहते हैं तो अपनाएं ये 5 आसान तरीके

जल्दी-जल्दी न बदलें नौकरी

अगर आप प्राइवेट कंपनी में काम कर रहें है और जल्दी-जल्दी यानी कम समय के अंतराल में नौकरी बदल रहे हैं तो आपके लिए अच्छा नहीं है. जल्दी नौकरी बदलने से बैंक आपके करियर को अस्थिर मानती है यानी ये अस्थिर करियर का संकेत हैं. ऐसे में बैंक पर्सनल लोन देना रिस्क मानती है. ऐसे में आपके लोन के अप्रूव होने की संभावना कम हो जाती है.

यह भी पढ़ेंः जानें, 10 प्राइवेट बैंकों के सेविंग अकाउंट का Interest Rate, कौन सा Bank दे रहा 7 प्रतिशत ब्याज?

एक साथ कई बैंकों में न करें लोन आवेदन

अगर आप एक साथ कई बैंकों में पर्सनल लोन लेने के लिए आवेदन कर रहे हैं तो ऐसा करने से आपको बचना चाहिए. पर्सनल लोन देने वाले बैंक या नॉन‑बैंकिंग फाइनेंशियल इंस्टिट्यूशन (NBFC) आपकी एप्लीकेशन मंजूर करने से पहले आपकी क्रेडिट हिस्ट्री चेक करते हैं. ऐसे में अगर आपने कई बैंकों में अप्लाई कर रखा है तो भी आपका आवेदन खारिज हो सकता है.

यह भी पढ़ेंः SBI बैंक ने होम लोन Interest Rate में की कटौती, प्रोसेसिंग फीस भी माफ

बैंक का रखें ध्यान

आप पर्सनल लोन के लिए किस बैंक में आवेदन कर रहे हैं इसका ध्यान रखना भी जरूरी है. आप ऐसे बैंक का चुनाव कर सकते हैं जिस बैंक में आपने पहले से निवेश किया है. अगर आपने जिस बैंक में अपना FD करवाया है वहां लोन के लिए अप्लाई करें तो आपका लोन आसानी से अप्रूव हो सकता है. ऐसे में आपका क्रेडिट स्कोर खराब भी हो तो आपको लोन मिल सकता है.

ये भी पढ़ेंः कहां और कैसे लगवाएं वाहन पर FASTag, डैमेज और गुम होने पर ऐसे मिलेगा फास्टैग

पुराने लोन को कम करें

अगर आपने पहले किसी तरह का लोन ले रखा है तो आपको आवेदन करने से पहले पुराने लोन को कम करना होगा. इसके लिए देखना जरूरी है कि ये लोन आपकी कमाई का कितना प्रतिशत है. इसके लिए FOIR नाम का एक पैरामीटर का इस्तेमाल किया जाता है. अगर इस पैरामीटर में आपका लोन 40 से 50 प्रतिशत तक अधिक है तो आपको इसे कम करना होगा. लोन का कर्ज कम होने पर ही होम लोन के लिए आवेदन करें.