कोरोना वायरस महामारी के बीच बिहार सरकार ने इलाज के दौरान मनमाना पैसे वसूल रहे लोगों पर शिकंजा कसने की तैयारी कर ली है. इस बीच सरकार ने लगातार आदेश जारी कर रही है. सरकार ने पहले एंबुलेंस चालक और प्राइवेट अस्पताल प्रबंधकों की मनमानी पर ब्रेक लगाने के बाद CT-SCAN के लिए लैब द्वारा वसूले जा रहे मनमाने कीमत पर लगाम लगाने की तैयारी कर ली है.

बिहार सरकार के द्वारा अब CT-SCAN के शुल्क को तय कर दिया है. अब सिटी-स्कैन के लिए मनमाने रेट नहीं वसूला जा सकेगा.

यह भी पढ़ेंः राजस्थान में कोरोना मृत के अंतिम यात्रा में गए 150 लोगों में 21 की मौत

यह भी पढ़ेंः DRDO की 2-DG कोरोना की दवा को DCGI की मिली मंजूरी, जानें इसके बारे में सब कुछ

बिहार स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस मामले में आदेश जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि, वैश्विक महामारी कोविड-19 की जांच HRCT Thorax (High Resolution CT Scan) पद्धति से करने के लिए निम्न प्रकार अधिकतम शुल्क निर्धारित किया जाता है.

1. Single Slice CT Machine (अधिकतम 2500/- रुपये)

2. Multi Slice CT Machine (अधिकतम 3000/- रुपये).

यह भी पढ़ेंः अस्पताल में भर्ती होने के लिए कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट होना जरूरी नहीं

आदेश में कहा गया है कि, यह शुल्क जीएसटी, पीपीई कीट और सेनेटाइजेशन सहित निर्धारित की गई है. निजी जांच केन्द्रों की ओर से अधिकतम दर के अनुसार ही मरीजों से शुल्क लिया जाएगा. इसका उल्लंघन किए जाने पर द बिहार एपिडेमिक डिजीजेज, कोविड-19 रेगुलेशन, 2021 के तहत वैधानिक कार्रवाई की जाएगी.

यह भी पढ़ेंः UP में 26,847 नए कोरोना केस, सीएम योगी ने कहा- 'राज्य में सफल है कोरोना मैनेजमेंट'