बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती ने लखनऊ के पार्टी कार्यालय में प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन में हिस्सा लिया. इस सम्मलेन में मायावती ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत के उस बयान पर कमेंट किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि हिंदुओं और मुसलमानों के पुरखे एक ही थे और हर भारतीय 'हिंदू' है. मायावती ने ये भी कहा कि ब्राह्मण इस बात से सहमत हैं कि बसपा के शासन में, भाजपा के शासन की तुलना में ब्राह्मण समुदाय के लोग बेहतर स्थिति में थे. कार्यक्रम में बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा भी मौजूद रहे.

यह भी पढ़ें: तालिबान-RSS वाले बयान पर BJP-शिवसेना के निशाने पर आए जावेद अख्तर, घर के बाहर सुरक्षा बढ़ाई गई

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा, "मुझे कल मीडिया के ज़रिए मालूम हुआ है कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा है हिंदुओं और मुसलमानों के पूर्वज एक ही हैं. मैं उनसे पूछना चाहती हूं कि एक ही हैं तो आरएसएस की बीजेपी हर स्तर पर मुसलमानों के साथ सौतेला रवैया क्यों अपना रही है."

2019 के बाद पहली बार किसी सार्वजनिक मंच पर आईं मायावती ने कहा, "दलित वर्ग के लोगों पर शुरू से गर्व रहा है कि उन्होंने बिना गुमराह और बहकावे में आए कठिन से कठिन दौर में भी पार्टी का साथ नहीं छोड़ा. ये लोग मज़बूत चट्टान की तरह पार्टी के साथ खड़े रहे हैं. उम्मीद है कि BSP से जुड़े अन्य सभी वर्गों के लोग इनकी तरह आगे कभी गुमराह नहीं होंगे." मायावती ने कहा कि उनकी पार्टी को 2007 की तरह सरकार बनाने से कोई नहीं रोक सकता है. 

ब्राह्मणों के लिए क्या बोलीं मायावती 

बसपा अध्यक्ष मयावती ने कहा, "ब्राम्हण समाज के लोग भी कहने लगे हैं कि, हमने BJP के प्रलोभन भरे वादों के बहकावे में आकर पूर्ण बहुमत की सरकार बनाकर बहुत बड़ी गलती की है. BSP की रही सरकार ने ब्राम्हण समाज के लोगों के सुरक्षा, सम्मान, तरक्की के मामले में हर स्तर पर अनेको ऐतिहासिक कार्य किए हैं."

मायावती ने कहा, "मैं ब्राह्मण समुदाय को विश्वास दिलाता हूं कि अगर हम अगले चुनाव में सत्ता में आए तो हम उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे. आने वाले चुनावों में हमें 2007 की तरह बहुमत के साथ सरकार बनाने के लिए ब्राह्मण समुदाय के और लोगों को अपने साथ जोड़ना चाहिए."

प्रबुद्ध सम्मेलन में मायावती के संबोधन से पहले कार्यकर्ताओं ने जय श्री राम और जय परशुराम के नारे भी लगाए थे. इसके साथ-साथ पार्टी का पुराना नारा, 'हाथी नहीं गणेश है, ब्रह्मा, विष्णु,महेश है.' भी लगाया गया.

बता दें कि 2022 में उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में बीजेपी और समाजवादी पार्टी के बाद अब बहुजन समाज पार्टी भी धीमे-धीमे एक्टिव हो रही है. बहुत से लोग बीजेपी और बसपा के गठबंधन के कयास लगा रहे थे, लेकिन इन बयानों से ये कयास कुछ हद तक फीके पड़ जाने चाहिए. 

यह भी पढ़ें: पैरालंपिक मेडलिस्ट और डीएम सुहास यतिराज की पत्नी रह चुकी हैं मिसेज इंडिया, किए हैं बड़े-बड़े कारनामे