राजस्थान में फोन टैपिंग मामले में सियासी जंग तेज हो गई हैं. केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को राजस्थान के स्पेशल ऑपरेशंस ग्रुप (SOG) ने वॉयस सैंपल के लिए नोटिस भेजा है. इसे लेकर शेखावत ने कहा कि SOG ने मेरे निजी सचिव के माध्यम से एक नोटिस भेजा है. नोटिस में उन्होंने मुझे अपना बयान और आवाज का सैंपल रिकॉर्ड कराने के लिए कहा गया है. उन्होंने कहा कि जांच एजेंसी को पहले ये जांच करे और बताए कि ऑडियो क्लिप का सॉर्स क्या है. साथ ही किसकी परमिशन से इसे रिकॉर्ड किया गया?इसे किसने रिकॉर्ड करवाया. इसकी प्रमाणिकता क्या है. मैं पहले भी कह चुका हूं कि हर किस्म की जांच के लिए मेरे दरवाजे हमेशा खुले हुए हैं.

बता दें कि कांग्रेस ने सचिन पायलट गुट और भारतीय जनता पार्टी के नेताओं पर अशोक गहलोत सरकार को गिराने का आरोप लगाया था. कांग्रेस ने ऑडियो टेप का जिक्र भी किया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि ये आवाज केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत की है.

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने आज भी सचिन पायलट और बीजेपी पर निशाना साथा है. उन्होंने कहा कि सचिन पायलट पिछले छह महीने से बीजेपी के साथ मिलकर षड्यंत्र रच रहे थे. मैं जब कहता था कि सरकार को गिराने के लिए षड्यंत्र चल रहा है, तब मेरा विश्वास नहीं किया जाता था, कोई नहीं जनता था कि इतनी भोली शक्ल वाला ऐसा करेगा. मैं यहां सब्जी बेचने के लिए नहीं हूं, मैं मुख्यमंत्री हूं."

इसके साथ ही गहलोत ने आरोप लगाया कि उनका समर्थन कर रहे विधायक बिना किसी प्रतिबंध के रह रहे हैं, जबकि उन्होंने अपने विधयकों को बंधक बनाया हुआ है. गहलोत ने कहा कि उनके विधायक हमको फोन करके रो रहे हैं और अपना स्थिति बयां कर रहे हैं. सीएम ने ये भी आरोप लगाया कि उन विधायकों के फोन भी छीन लिए गए हैं, वह कांग्रेस के साथ जुड़ना चाहते हैं.