नयी दिल्ली, 19 अप्रैल (भाषा) देश में कोविड-19 महामारी के बढ़ते मामलों के चलते सोमवार को इंडिया ओपन सुपर 500 टूर्नामेंट स्थगित कर दिया गया जो तोक्यो ओलंपिक के लिये अंतिम तीन क्वालीफाइंग टूर्नामेंटों में से एक है।

नयी दिल्ली में इस 400,000 डॉलर ईनामी राशि के इंडिया ओपन को दर्शकों के बिना 11 से 16 मई तक आयोजित किया जाना था।

भारतीय बैडमिंटन संघ (बीएआई) के महासचिव अजय सिंघानिया ने वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘‘मौजूदा चुनौतियों को देखते हुए बीएआई के पास फिलहाल इस टूर्नामेंट को स्थगित करने की घोषणा करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘बीडब्ल्यूएफ, दिल्ली सरकार और अन्य शेयरधारकों के साथ कई राउंड चर्चाओं के बाद तथा खिलाड़ियों और अधिकारियों की सुरक्षा के लिये बीएआई को यह फैसला लेने की जरूरत पड़ी। ’’

भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 2,73,810 नये मामले सामने आये हैं जिससे देश में इस बीमारी की चपेट में अब तक 1.5 करोड़ से अधिक लोग आ चुके है। पिछले 24 घंटे में कोविड-19 वायरस से 1,619 लोगों की मौत हो चुकी है। दिल्ली सबसे ज्यादा प्रभावित शहरों में हैं जिसमें रविवार को 25,462 मामले दर्ज किये गये।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को छह दिन के लॉकडाउन की घोषणा की जो आज रात से अगले सोमवार तक रहेगा।

कोविड-19 मामलों के बढ़ने से शीर्ष खिलाड़ियों जैसे ओलंपिक चैम्पियन कैरोलिना मारिन, पूर्व विश्व चैम्पियन रतचानोक इंतानोन और डेनमार्क के एंडर्स एंटोनसेन और रासमस गेमके ने ओलंपिक रैंकिंग के टूर्नामेंट से हटने का फैसला किया।

सिंघानिया ने कहा, ‘‘हमें 228 खिलाड़ियों की प्रविष्टियां मिली थीं और कोचों, सहयोगी स्टाफ और अधिकारियों सहित करीब 300 लोग एकत्रित होंगे और हालात इस तरह के हैं तो योनेक्स-सनराइज इंडिया ओपन के 2021 चरण का आयोजन अभी काफी जोखिम भरा लगा। ’’

इंडिया ओपन का पिछला चरण भी रद्द करना पड़ा था जिसे पहले मार्च से दिसंबर तक स्थगित किया गया था।

संशोधित कैलेंडर में सैयद मोदी सुपर 300 टूर्नामेंट भी रद्द कर दिया गया था जिसे 17 से 22 नवंबर तक कराया जाना था।