भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे चौथा टेस्ट मैच रोमांचक मोड़ पर पहुंच चुका है. टेस्ट मैच का आखिरी दिन सोमवार को खेला जाएगा और भारतीय टीम को जीतने के लिए 10 विकेट लेने होंगे. टीम इंडिया ने दूसरी पारी में 466 रन बनाकर इंग्लैंड को 368 रनों का लक्ष्य दिया. वहीं, इंग्लैंड की दूसरी पारी में अच्छी शुरुआत ने टीम इंडिया के लिए परेशानी बढ़ा दी है. हालांकि, पांचवे दिन अगर भारतीय गेंदबाज कमाल करते हैं तो मैच जीत सकते हैं.

यह भी पढ़ेंः भारतीय क्रिकेट टीम को लगा बड़ा झटका, रवि शास्त्री कोरोना पॉजिटिव

इंग्लैंड की टीम ने चौथे दिन के खेल खत्म होने तक 77 रन बना लिये हैं और उन्हें जीत के लिए 291 रन चाहिए. इंग्लैंड की टीम के ओपनर रॉरी बर्न्स ने 31 रन और हसीब हमीद ने 43 रन बनाकर अच्छी शुरुआत की है. ऐसे में पाचवें दिन भारतीय गेंदबाजों को इन जोड़ियों को तोड़ने की चुनौती होगी.

टीम इंडिया के गेंदबाजों ने पहली पारी में इंग्लैंड के खिलाफ अच्छी गेंदबाजी की थी और उन्हें 290 रन पर रोक दिया था. इसमें उमेश यादव और जसप्रीत बुमराह ने अच्छी गेंदबाजी कर इंग्लैंड के टॉप ऑर्डर को पवेलियन पहुंचाया था. इस बार उन्हें कुछ ऐसा ही कमाल करना होगा.

यह भी पढ़ेंः केएल राहुल को लगा झटका, काट ली गई 15 प्रतिशत मैच फीस

इंग्लैंड के पास मैच जीतने के लिए पूरा समय है उन्हें पूरे दिन में 291 रन बनाने हैं जो आसान हो सकता है. लेकिन अगर भारतीय टीम गेंदबाजी अच्छी करती है और विकेट गिराकर इंग्लैंड पर दवाब बनाती है तो मैच भारतीय टीम के हाथ में आ सकती है.

यह भी पढ़ेंः सौरव गांगुली और एमएस धोनी में कौन था बेहतर कप्तान, जानिए वीरेंद्र सहवाग ने क्या कहा

भारतीय टीम के पास ओवल के मैदान में इतिहास रचने का मौका है. जो वह 50 साल से नहीं कर पाई है. भारतीय टीम को ओवल के मैदान में 1971 में जीत मिली थी. उस मुकाबले में बीएस चंद्रशेखर ने 38 रन देकर 6 विकेट लिए थे. टीम इंड्यै को 4 विकेट से जीत मिली थी. अब 50 साल बाद भारतीय गेंदबाजों को ऐसा ही कुछ कारनामा करना होगा.

यह भी पढ़ेंः Tokyo Paralympics 2020: यहां देखें टोक्यो पैरालंपिक में किसने जीता कौन सा पदक, पूरी मेडल लिस्ट