पूर्वी लद्दाख में चीन की सेना के साथ चल रहे गतिरोध के बीच भारतीय सेना ने उत्तरी सिक्किम के सीमाई क्षेत्र में 17,500 फुट की ऊंचाई पर रास्ता भटक चुके तीन चीनी नागरिकों को भोजन, गरम कपड़े और चिकित्सा सहायता प्रदान की.

क्षेत्र में तैनात सैन्यकर्मियों ने बुधवार को शून्य से नीचे के तापमान के बीच एक महिला समेत तीनों चीनी नागरिकों को चीन की तरफ लौटने और अपने गंतव्य तक पहुंचने में मदद की.

सेना ने मदद का हाथ ऐसे वक्त बढ़ाया जब वह पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिकों के आक्रामक व्यवहार से निपट रही है .

सेना ने एक बयान में कहा कि तीनों चीनी नागरिक उत्तरी सिक्किम के पठारी क्षेत्र में रास्ता भटक गए थे.

सेना ने कहा, ‘‘शून्य से नीचे के तापमान के दौरान चीनी नागरिकों का जीवन खतरे में देखकर भारतीय सेना के जवान तुरंत वहां पहुंचे और ऑक्सीजन, भोजन और गर्म कपड़े समेत चिकित्सा सहायता उन्हें प्रदान की .’’

बयान में कहा गया कि भारतीय सैनिकों ने उन्हें गंतव्य तक पहुंचने के लिए उचित मागदर्शन भी किया जिसके बाद वे लौट गए.

सेना ने कहा, ‘‘तुरंत सहायता प्रदान करने के लिए चीनी नागरिकों ने भारत और भारतीय सेना का आभार प्रकट किया. ’’

पिछले चार महीने से पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेना के बीच गतिरोध चल रहा है . गलवान घाटी में 15 जून को दोनों पक्षों के बीच हिंसक झड़प के बाद तनाव और बढ़ गया.