दोहा, 26 मई (भाषा) कप्तान सुनील छेत्री सहित भारतीय फुटबॉल टीम के खिलाड़ियों ने कोविड-19 महामारी के कारण अपनी तैयारी आदर्श नहीं होने के बाद भी अगले महीने 2022 विश्व कप और 2023 एशियाई कप क्वालीफायर में अच्छा प्रदर्शन करने का बुधवार को विश्वास व्यक्त किया।

भारत को तीन जून को एशियाई चैंपियन कतर, सात जून को बांग्लादेश और 15 जून को अफगानिस्तान के खिलाफ खेलना है। ये तीनों मैच यहां जसीम बिन हमद स्टेडियम में खेले जाएंगे।

टीम इन मैचों की तैयारी के लिए कतर की इस राजधानी में है।

अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) की ओर से आयोजित वीडियो कांफ्रेस में छेत्री ने कहा, ‘‘ हम परिस्थितियों का पूरा फायदा उठा रहे हैं।’’

टीम के रक्षापंक्ति के शीर्ष खिलाड़ी संदेश झिंगन ने कहा, ‘‘ टीम में आत्मविश्वास बहुत अधिक है। हमने ऐसा पहले भी किया है और कोई कारण नहीं है कि हम इसे दोबारा नहीं कर सकते। हम एक टीम के रूप में विकसित हुए हैं और हमें इसे एक साथ आगे ले जाने की जरूरत है।’’

गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू ने कहा, ‘‘ हम समझते हैं कि हमारी तैयारी जैसी होनी चाहिये वैसी नहीं है लेकिन हमें एक टीम के रूप में अपनी क्षमताओं पर भरोसा है। हम डरे हुए नहीं हैं और क्वालीफायर खेलना महत्वपूर्ण है।’’

एआईएफएफ के अध्यक्ष प्रफुल्ल पटेल ने फीफा विश्व कप और एएफसी एशियाई कप क्वालीफायर से पहले टीम की तैयारियों का जायजा लेने के लिए अनुभवी खिलाड़ियों से संपर्क किया।

उन्होंने खिलाड़ियों को फिट रहने के लिए प्रोत्साहित किया और उन्हें शुभकामनाएं दीं।

पटेल ने कहा, ‘‘ मैं आप सभी के अच्छे स्वास्थ्य और बेहतरी की कामना करता हूं। हमें आप पर बेहद गर्व है। हमने कतर सरकार से बात की और हम भाग्यशाली थे कि उन्होंने 10-दिवसीय पृथकवास के लिए जोर नहीं दिया। इससे टीम को दोहा जल्दी पहुंचने और अभ्यास सत्र शुरू करने की अनुमति मिली।’’

भारतीय टीम ग्रुप ए में तीन अंकों के साथ चौथे पायदान पर है। टीम विश्व कप के लिए क्लालीफाई करने की दौड़ से बाहर हो गयी है लेकिन 2023 में चीन में खेले जाने वाले एशियाई कप की दौड़ में बनी हुई है।

मुख्य कोच इगोर स्टिमक ने दोहा में टीम को जल्दी पहुंचने में मदद करने के लिए अध्यक्ष को धन्यवाद दिया।

स्टिमक ने कहा, ‘‘ हम यहां पहले पहुंचने का अवसर प्रदान करने और हमारे लिए प्रशिक्षण की व्यवस्था करने के लिए अध्यक्ष और एआईएफएफ में सभी के लिए आभारी हैं।’’

उन्होंने टीम की मौजूदा स्थिति से अध्यक्ष को अवगत करते हुए कहा, ‘‘उम्मीदें तो काफी हैं लेकिन वास्तविक स्थिति आदर्श नहीं है।’’

भाषा आनन्द

आनन्द सुधीर

सुधीर