ओसियेक (क्रोएशिया), 22 मई (भाषा) ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके भारत के 13 निशानेबाजों की टीम क्रोएशिया की राजधानी जागरेब से ओसियेक पहुंची जहां वे यूरोपीय चैंपियनशिप के न्यूनतम क्वालीफिकेशन स्कोर (एमक्यूएस) वर्ग में चुनौती पेश करेंगे।

प्रतियोगिता की शुरुआत शनिवार को जूनियर वर्ग की स्पर्धाओं के साथ हुई।

तोक्यो जाने वाले भारत के निशानेबाज सिर्फ ओलंपिक स्पर्धाओं के व्यक्तिगत पुरुष और महिला वर्ग में हिस्सा लेंगे।

अंजुम मोदगिल दो व्यक्तिगत स्पर्धाओं (महिला 10 मीटर एयर राइफल और 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन) में हिस्सा ले सकती हैं।

क्रोएशिया के पूर्वी हिस्से में स्थित ओसियेक को यूरोपीय चैंपियनशिप के समाप्त होने के कुछ हफ्ते बाद 22 जून से अंतरराष्ट्रीय निशानेबाजी खेल महासंघ (आईएसएसएफ) विश्व कप राइफल/पिस्टल/शॉटगन प्रतियोगिता की मेजबानी भी करनी है।

भारत की राइफल कोच दीपाली देशपांडे ने कहा, ‘‘हम सभी सात दिन का पृथकवास पूरा करने के बाद अच्छा महसूस कर रहे हैं। टीम अच्छी स्थिति में है और चैंपियनशिप को लेकर उत्सुक है।’’

पहली ओलंपिक स्पर्धा पुरुष और महिला 10 मीटर एयर राइफल और एयर पिस्टल स्पर्धा सोमवार को होगी।

एमक्यूएस वर्ग में निशानेबाज पदक के लिए चुनौती पेश नहीं करता और इसलिए फाइनल के लिए क्वालीफाई करने का पात्र नहीं होता। इनके स्कोर हालांकि आधिकारिक और रैंकिंग उद्देश्य से इस्तेमाल किए जा सकते हैं।

भारत के कुल 15 निशानेबाजों ने तोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया है। तोक्यो खेलों के लिए क्वालीफाई करने वाले स्कीट निशानेबाज मेराज खान और अंगद बाजवा इटली में ट्रेनिंग कर रहे हैं।

भाषा सुधीर आनन्द

आनन्द