नयी दिल्ली, 25 मई (भाषा) क्रोएशिया में मौजूदा भारतीय निशानेबाजों को यूरोपीय चैंपियनशिप में और अधिक प्रतियोगिता जैसे अभ्यास का मौका मिलेगा क्योंकि फैसला किया गया है कि वे मिश्रित टीम और राइफल प्रोन प्रतियोगिताओं में भी न्यूनतम क्वालीफिकेशन स्कोर (एमक्यूएस) दौर में चुनौती पेश करेंगे।

शुरुआत में भारतीय निशानेबाजों को सिर्फ व्यक्तिगत ओलंपिक स्पर्धाओं में हिस्सा लेना था।

मिश्रित टीम स्पर्धाएं बुधवार को होनी हैं जबकि राइफल प्रो स्पर्धाएं गुरुवार को होंगी।

मिश्रित टीम स्पर्धाओं में भारतीय निशानेबाजों को तीन दौर में से सिर्फ एक में निशानेबाजी की स्वीकृति होगी लेकिन कोचों का मानना है कि इस स्तर पर कोई भी अभ्यास अच्छा अभ्यास है।

भाषा सुधीर नमिता

नमिता