देश का विदेशी मुद्रा भंडार गत 19 जून को समाप्त सप्ताह के दौरान अपनी सर्वकालिक ऊंचाई से 2.078 अरब डॉलर घटकर 505.56 अरब डॉलर रह गया. भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है.

रिजर्व बैंक के अनुसार, 24 अप्रैल के बाद से पहली बार विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट आई है. तब विदेशी मुद्रा आस्तियां 11.3 करोड़ डॉलर घटकर 479.455 अरब डॉलर रह गयी थीं. 24 अप्रैल से 12 जून के बीच देश का विदेशी मुद्रा भंडार 28.189 अरब डॉलर बढ़ा है.

इससे पूर्व 12 जून को समाप्त हुए सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 5.942 अरब डॉलर बढ़कर 507.644 अरब डॉलर की रिकॉर्ड ऊंचाई को छू गया था. पांच जून को समाप्त सप्ताह में पहली बार देश का विदेशी मुद्रा भंडार 500 अरब डालर के स्तर को लांघ गया था जब यह 8.223 अरब डॉलर की जोरदार वृद्धि के साथ 501.703 अरब डॉलर हो गया था.

विदेशीमुद्रा भंडार में 19 जून को समाप्त सप्ताह में आई गिरावट का कारण कुल मुद्राभंडार का महत्वपूर्ण हिस्सा माने जाने वाले विदेशीमुद्रा आस्तियों में गिरावट आना है.

रिजर्वबैंक के आंकड़ों के अनुसार, समीक्षाधीन सप्ताह में विदेशीमुद्रा आस्तियां 1.698 अरब डॉलर घटकर 467.039 अरब डॉलर रह गई. zQ3समीक्षाधीन सप्ताह में स्वर्ण आरक्षित भंडार 35.8 करोड़ डॉलर घटकर 32.815 अरब डॉलर रह गया.

रिजर्व बैंक के आंकड़े दर्शाते हैं कि समीक्षाधीन सप्ताह में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष में विशेष आहरण अधिकार 60 लाख डॉलर घटकर 1.447 अरब डॉलर जबकि आईएमएफ में देश का आरक्षित मुद्राभंडार 1.6 करोड़ डॉलर घटकर 4.264 अरब डॉलर रह गया.