आइपीएल के 13वें सीजन में 18 अक्टूबर की शाम किंग्स इलेवन पंजाब ने मुंबई इंडियन्स पर शानदार जीत हासिल की है. जीतने के बाद टीम के कप्तान लोकेश राहुल ने कहा है कि रविवार को यहां मुंबई इंडियन्स के खिलाफ रोमांचक इंडियन प्रीमियर लीग मुकाबले में सिर्फ पांच रन का बचाव करने के दौरान तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी सुपर ओवर में छह यॉर्कर फेंकना चाहते थे.

नियमित 20 ओवर के बाद मैच टाई रहा. किंग्स इलेवन पंजाब की टीम इसके बाद पहले सुपर ओवर में पांच रन ही बना सकी. शमी ने हालांकि शानदार गेंदबाजी करते हुए मुंबई को इसी स्कोर पर रोक दिया. किंग्स इलेवन पंजाब ने अंतत: दूसरे सुपर ओवर में जीत दर्ज की. राहुल ने मैच के बाद कहा, ‘‘आप कभी सुपर ओवर के लिए तैयारी नहीं कर सकते. कोई टीम ऐसा नहीं कर सकती. इसलिए आपको गेंदबाज पर भरोसा करना होता है. आप गेंदबाज पर भरोसा करते हो और उम्मीद करते हो कि वह अपनी सहज प्रवृत्ति के अनुसार गेंदबाजी करेगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘वह (शमी) बिलकुल स्पष्ट था, वह छह यॉर्कर फेंकना चाहता था. उसने शानदार काम किया और प्रत्येक मैच के साथ बेहतर हो रहा है. यह महत्वपूर्ण है कि सीनियर खिलाड़ी टीम को मैच जिताएं.’’

मैच में 77 रन की पारी खेलने के लिए मैन आफ द मैच चुने गए राहुल ने जीत पर खुशी जताई लेकिन कहा कि उनकी टीम इस तरह जीत दर्ज करने की आदत नहीं बनाना चाहती. उन्होंने कहा, ‘‘यह पहली बार नहीं हुआ. लेकिन हम इस तरह की आदत नहीं बनाना चाहते. अंत में हम दो अंक स्वीकार करेंगे. हमेशा वैसा नहीं होता जैसी आप योजना बनाते हो इसलिए आपको नहीं पता कि संतुलित कैसे रहना है.’’

राहुल ने कहा कि विकेट थोड़ा धीमा था और इसलिए उन्हें पता था कि पावर प्ले में रन बनाना महत्वपूर्ण होगा. उन्होंने कहा, ‘‘मैं क्रिस (गेल) और (निकोलस) पूरन को जानता हूं... मैं विश्वास करता हूं कि वे स्पिनरों के खिलाफ रन बनाएंगे. क्रिस के आने से बल्लेबाज के रूप में मेरा काम आसान हो गया है.’’

मुंबई इंडियन्स के बल्लेबाज कीरोन पोलार्ड ने कहा कि मैच ने दिखाया कि प्रत्येक रन मायने रखता है. उन्होंने कहा, ‘‘टी20 क्रिकेट में एक और दो रन बेहद महत्वपूर्ण होते हैं. किंग्स इलेवन पंजाब के हमें पछाड़ा और वे दो अंक के हकदार थे. राहुल ने एक बार फिर शानदार बल्लेबाजी की, मैच सुपर ओवर तक गया, उन्हें बधाई.’’

पोलार्ड ने कहा, ‘‘11-12 ओवर तक हमें पता था कि हम पीछे चल रहे हैं. 170 के आसपास रन बनाना, अच्छा स्कोर था. धीमी पिच पर यह प्रतिस्पर्धी स्कोर से बेहतर था. मैदान बड़ा होने के कारण हमने सोचा था कि हम इसका बचाव कर लेंगे.’’ पोलार्ड ने हार के बावजूद कहा कि उनकी टीम ने अच्छा क्रिकेट खेला.