भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षेण (ASI) अब वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद विवाद से जुड़े मामले में विवादित परिसर का पुरातात्विक सर्वेक्षण करेगा. फास्ट ट्रैक अदालत ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश सरकार को अपने खर्चे पर यह सर्वेक्षण करने का आदेश दिया है.

ये भी पढ़ें: दिल्ली में COVID19 मामलों में भारी उछाल, इस साल के सर्वाधिक 7,437 नए केस आए

इस मामले में वाद दायर करने वाले वकील रस्तोगी ने बताया कि सीनियर डिवीजन फास्ट ट्रैक (दीवानी न्यायाधीश) अदालत, वाराणसी ने इस सर्वेक्षण में ASI के पांच विख्यात पुरातत्ववेत्ताओं को शामिल करने का आदेश दिया है जिसमे दो अल्पसंख्यक समुदाय के पुरातत्ववेत्ता शामिल रहेंगे.

ये भी पढ़ें: केरल के CM पिनाराई विजयन COVID19 से संक्रमित पाए गए, 3 मार्च को ली थी वैक्सीन

अधिवक्ता ने बताया कि वर्ष 2019 में दीवानी न्यायाधीश की अदालत में उन्होंने स्वयम्भू भगवान विश्वेश्वर काशी विश्वनाथ की ओर से वाद मित्र के रूप में आवेदन दिया था कि ज्ञानवापी मस्जिद, विश्वेश्वर मंदिर का एक अंश है. उन्होंने कहा कि अदालत ने उनके अनुरोध पर विचार करते हुए परिसर में पुरातात्विक सर्वेक्षण के आदेश दिया है.

ये भी पढ़ें: हम CHINA की तुलना में इतने गरीब क्यों रह गए? 

ये भी पढ़ें: अनिल देशमुख के खिलाफ जारी रहेगी CBI जांच, SC ने खारिज की महाराष्ट्र सरकार की याचिका