भारतीय कप्तान विराट कोहली ने मंगलवार को संकेत दिए कि वह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टेस्ट मैच से पूर्व 'आस्ट्रेलिया ए' के खिलाफ तीन दिन के अंदर शुरू होने वाले दूसरे अभ्यास मैच से बाहर रह सकते हैं.

भारत और आस्ट्रेलिया के बीच सीमित ओवरों की श्रृंखला के बाद चार टेस्ट मैचों की श्रृंखला का पहला मैच 17 से 21 दिसंबर के बीच एडीलेड में खेला जाएगा. कोहली इस मैच में टीम की अगुवाई करेंगे. इसके बाद वह अपने पहले बच्चे के जन्म के लिये स्वदेश लौट जाएंगे.

कोहली ने तीसरे और अंतिम टी20 अंतरराष्ट्रीय में भारत की 12 रन से हार के बाद कहा, ‘‘मैं कल सुबह उठने के बाद देखूंगा कि मैं अभ्यास मैच में खेल सकता हूं या नहीं. इसमें खेलना या नहीं खेलना का फैसला करना मेरे हाथ में नहीं है और मैं पूरे मैच में खेलना पसंद करूंगा. मैं अपने फिजियो के पास जाऊंगा और उसी के बाद इस मैच में खेलने को लेकर फैसला करूंगा. ’’

आस्ट्रेलिया के गेंदबाजों ने कोहली की 85 रन की पारी के बावजूद भारत को क्लीन स्वीप करने से रोक दिया. भारत ने श्रृंखला 2-1 से जीती. कुल मिलाकर कोहली खुश हैं कि उनकी टीम ने मुश्किल परिस्थितियों में जीत हासिल करने का तरीका पता कर लिया है. उन्होंने कहा, ‘‘हम वापसी करने और विरोधी टीम को दहशत में रखने के तरीके ढूंढ रहे हैं और श्रृंखला में जीत से हमने 2020 सत्र का शानदार अंत किया.’’

पिछले मैच की तरह कोहली के साथ आखिरी क्षणों में हार्दिक पंड्या क्रीज पर थे और एक समय उन्होंने भारत की जीत की उम्मीद जगा दी थी. कोहली ने कहा, ‘‘एक समय जब हार्दिक ने बड़े शॉट खेलने शुरू किये तो हमें लगा कि हम लक्ष्य हासिल कर सकते हैं. हमने बीच के ओवरों में धीमी बल्लेबाजी का खामियाजा भुगता. अगर उस समय 30 रन की भागदारी निभायी गयी होती तो हार्दिक के लिये काम आसान हो जाता. ’’

कोहली ने आस्ट्रेलिया के खेल प्रेमी दर्शकों का भी आभार व्यक्त किया जो कोविड-19 महामारी के खौफ के बावजूद बड़ी संख्या में स्टेडियम में पहुंचे.

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने दर्शकों की उपस्थिति का भी अहसास किया. इससे आपको हमेशा प्रेरणा मिलती है. कुछ अवसरों पर हमारे समर्थकों ने हमें मुश्किल परिस्थिति से बाहर निकलने में मदद की. आस्ट्रेलिया को भी बहुत अच्छा समर्थन मिला. हम खिलाड़ियों को दर्शकों की ऊर्जा का भी फायदा मिला. ’’

टी20 श्रृंखला जीतने के बाद कोहली की नजर अब टेस्ट मैचों पर है और उन्होंने कहा कि वर्तमान टीम दो साल पहले यहां अपनी पहली टेस्ट श्रृंखला जीतने वाली टीम से मजबूत है.

उन्होंने कहा, ‘‘हमें टेस्ट मैचों में भी यही प्रतिस्पर्धी रवैया अपनाना होगा. हमें यहां खेलने का अनुभव है और हम अच्छा स्कोर बना सकते हैं. हमें सत्र दर सत्र अच्छा स्कोर बनाने पर ध्यान देना होगा. मुझे पूरा विश्वास है कि वर्तमान टीम पिछली बार की टीम से अधिक मजबूत है. ’’

आस्ट्रेलियाई कप्तान आरोन फिंच को खुशी है कि पहले दो मैचों में हार के बाद उनकी टीम अंतिम मैच जीतने में सफल रही.

फिंच ने कहा, ‘‘यह शानदार श्रृंखला थी और पहले दो मैचों में हम हार गये. पहली बार हमने दो लेग स्पिनर (एडम जंपा और मिशेल स्वेपसन) को टीम में रखा और उन्होंने यहां की छोटी बाउंड्रीज के बावजूद साहसिक गेंदबाजी की. इसलिए श्रेय उन दोनों को जाता है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘स्वेपसन ने शिखर (धवन) और विराट के सामने सातवां ओवर किया. जंपा ने भी बहुत अच्छी गेंदबाजी की. हमने पिछले 18 महीनों में सीमित ओवरों में अच्छा प्रदर्शन किया और मुझे इस टीम पर गर्व है. ’’

स्वेपसन ने 23 रन देकर पांच विकेट लिये जिनमें धवन भी शामिल है. उन्हें मैन आफ द मैच चुना गया. उन्होंने कहा, ‘‘इस पुरस्कार को पाकर और अपनी टीम को जीत दिलाकर खुश हूं.’’