देश के लगभग सभी राज्यों में कोरोना का कहर दिख रहा है. रोजना देश में कोरोना संक्रमण के मामले 4 लाख से अधिक आ रहे हैं. वहीं, कोरोना मरीजों के मौत के भी रिकॉर्ड मामले दर्ज किए जा रहे हैं. ऐसे में स्वास्थ्य मंत्रालय ने बड़ा फैसला करते हुए कोरोना की राष्ट्रीय नीति में बदलाव किया है.

नई नीति के मुताबकि, अब कोविड हेल्थ फेसिलिटी में बिना कोरोना पोजिटिव रिपोर्ट के भी अस्पताल में भर्ती करने का प्रावधान किया गया है.

यह भी पढ़ेंः DRDO की 2-DG कोरोना की दवा को DCGI की मिली मंजूरी, जानें इसके बारे में सब कुछ

स्वास्थ्य मंत्रालय ने अस्पताल में भर्ती होने के नियमों और मानदंडों में बदलाव किया है. वहीं, राज्यों को ये सुनिश्चित करने को कहा गया है कि सभी कोरोना संदिग्ध मरीजों को भर्ती किया जाए. इसके मुताबिक संदिग्ध कोरोना मरीजों को CCC, DCHC के संदिग्ध वार्ड में भर्ती किया जा सकता है.

यह भी पढ़ेंः इन दो राज्यों में 10 मई से संपूर्णं लॉकडाउन, कोरोना गाइडलाइंस को तोड़ने वालों पर होगी सख्ती

इसके अलावा नई नीति के तहत मरीजों को दवा और ऑक्सीजन देने से मना नहीं किया जा सकता है. वह अगर दूसरे शहर का भी हो तो उसे इन चीजों से वंचित नहीं किया जाएगा. इसके लिए उसे स्थानीय पहचान पत्र दिखाने की जरूरत नहीं.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को तीन दिन के अंदर इन निर्देशों को शामिल करते हुए आवश्यक आदेश और परिपत्र जारी करने की सलाह दी है.

यह भी पढ़ेंः आसान भाषा में समझें क्या है SIP? निपट जाएगी वित्तीय समस्याएं