भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव देशभर में धूमधाम से मनाया गया. श्री कृष्णा का प्राकट्य हो चुका है और कृष्ण नगरी मथुरा में मंदिरों में भगवान का जन्म भी कराया गया. श्री कृष्ण के बाल रूप को लाया गया और कामधेनु के पास रखा गया. इस प्राकट्य को देखने के लिए श्रद्धालुओं की ऐसी भीड़ जमा हुई जहां से सिर्फ जय श्री कृष्णा की आवाज आई.

भगवान कृष्ण के बालरूप पर कामधेनू नाम की गाय ने दूध की धार गिराई गई, वहीं उनका अभिषेक दूध, दही और घी से कराया गया और श्री राधा कृष्ण की जयकार से पूरा माहौल गूंज उठा.

यह भी पढ़ें: Janmashtami 2021: आधी रात को हुआ था भगवान कृष्ण का जन्म, महत्वपूर्ण थी इसकी वजह

ANI के मुताबिक, दिल्ली के बिरला मंदिर में जन्माष्टमी के दौरान श्री कृष्णा का जलाभिषेक किया गया है.

ANI के मुताबिक, कृष्ण जन्माष्टमी मंदिर में फूलों की वर्षा की गई और धूमधाम से जन्माष्टमी का सेलिब्रेशन मनाया गया है.

ANI के मुताबिक, यूनियन होम मिनिस्टर अमित शाह ने अहमदाबाद के इस्कॉन मंदिर में जलाभिषेक किया.

यह भी पढ़ें: Janmashtami Vrat: जन्माष्टमी के व्रत के दौरान खाएं ऊर्जायुक्त भोजन, इन 3 चीज़ों खुद को रखें दूर

ANI के मुताबिक, गुजरात के अहमदाबाद के इस्कॉन मंदिर में यूनियन होम मिनिस्टर अमित शाह ने पूजा की.

ANI के मुताबिक, वेस्ट बंगाल के कोलकाता के इस्कॉन मंदिर में लॉर्ड कृष्णा का जलाभिषेक हुआ.

यह भी पढ़ें: श्रीकृष्ण ने राधा से विवाह क्यों नहीं किया? जानें क्या हैं मान्याताएं

बता दें, सबसे ज्यादा जन्माष्टमी का उत्सव मथुरा में होता है. इसके मथुरा के अलग-अलग मंदिरों में 30 अगस्त को जन्माष्टमी का पर्व धूमधाम से मनाया गया है. श्री कृष्ण जन्मस्थान पर सुबह-सुबह भक्तों की भीड़ उमड़ी और दिन चढ़ने के साथ ही वृंदावन में भी भक्तों की खूब भीड़ लगी. दिल्ली के इस्कॉन मंदिर, नोएडा के कृष्ण मंदिर सहित पूरे भारत में श्री कृष्ण जन्माष्टमी का उत्सव मनाया गया.

यह भी पढ़ें: Janmashtami 2021: इस जन्माष्टमी खुद को यूं करें तैयार, महिलाओं के लिए खास