तोक्यो, 25 मई (एपी) जापान की सरकार ने मंगलवार को इन चिंताओं को खारिज किया कि अमेरिका की अपने नागरिकों को जापान की यात्रा करने से बचने की चेतावनी देने का आगामी तोक्यो खेलों में हिस्सा लेने के बारे में सोच रहे ओलंपियन पर असर पड़ेगा।

अमेरिकी अधिकारियों ने वायरस के एक प्रकार से जापान में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों का हवाला देकर यह बात कही। अमेरिका कहना है कि इस वायरस से टीके लगवा चुके लोगों को भी खतरा है। अमेरिका ने अपने देश के नागरिकों के जापान की यात्रा करने पर प्रतिबंध नहीं लगाया है लेकिन इस चेतावनी का बीमा की दरों पर असर पड़ सकता है और साथ ही 23 जुलाई से शुरू होने वाले खेलों में हिस्सा लेने पर विचार कर रहे खिलाड़ियों और अन्य प्रतिभागियों का फैसला प्रभावित हो सकता है।

जापान के अधिकतर बड़े शहर आपातकाल की स्थिति का सामना का रहे हैं और कोविड-19 के बढ़ते मामलों के कारण जून के मध्य तक यही स्थिति रहने की उम्मीद है।

इससे चिंता बढ़ गई कि अगर अस्पतालों पर इसी तरह दबाव रहेगा और देश में इतने कम लोगों का टीकाकरण होगा तो जापान में ओलंपिक के लिए आने वाले हजारों प्रतिभागियों की मौजूदगी से कैसे निपटा जाएगा।

जपान के मुख्य कैबिनेट सचिव कात्सुनोबु केतो ने मंगलवार को नियमित प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि अमेरिका चेतावनी में जरूरी यात्रा को प्रतिबंधित नहीं किया गया है और जापान का मानना है कि ओलंपिक के आयोजन को लेकर तोक्यो के प्रयासों के लिए अमेरिकी समर्थन में कोई बदलाव नहीं आया है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमारा मानना है कि खेलों के आयोजन को लेकर जापान की सरकार की प्रतिबद्धता के समर्थन पर अमेरिका की स्थिति में कोई बदलाव नहीं आया है।’’

केतो ने कहा कि वाशिंगटन ने तोक्यो से कहा है कि यात्रा चेतावनी अमेरिकी ओलंपिक टीम के प्रतिनिधित्व से नहीं जुड़ी है।

एपी सुधीर नमिता

नमिता