एक्ट्रेस जूही चावला की तरफ से दिल्ली हाईकोर्ट में 5G के खिलाफ दायर याचिका को खारिज कर दिया गया है. वहीं, कोर्ट ने कहा कि जूही चावला ने 5जी तकनीक वाली याचिका बेवजह लगाई गई, इस बारे में सरकार को लिखा जा सकता था. इसके साथ ही कोर्ट ने जूही चावला पर 20 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है.

पीटीआई के मुताबिक, जस्टिस जे आर मिधा ने कहा कि, वादी चावला और दो अन्य ने कानून की प्रक्रिया का दुरुयोग किया है और कोर्ट का समय बर्बाद किया है. ये बिना ठोस कारणों के लगाई गई याचिका है.

यह भी पढेंः उरी के डायरेक्टर संग यामी गौतम ने लिए सात फेरे, देखें सरप्राइज फोटो

कोर्ट ने कहा कि, स्पष्ट है कि याचिका केवल पब्लिसिटी के लिए दायर किया गया था, क्योंकि चावला ने सुनवाई के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग लिंक को अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर प्रसारित किया. जिसके परिणामस्वरूप अज्ञात व्यक्तियों द्वारा बार-बार रुकावट डाली गई.

कोर्ट ने अज्ञात लोगों के खिलाफ अवमानना ​​नोटिस भी जारी किया और दिल्ली पुलिस को उनकी पहचान करने को कहा है.

यह भी पढ़ेंः क्या सलमान खान से पंगा लेने वाले KRK ने बेच दिया घर? मीका सिंह ने किया ऐसा दावा

आदेश सुनाए जाने के बाद चावला के वकील ने फैसले पर रोक लगाने की मांग की, जिसे अदालत ने सिरे से खारिज कर दिया.

आपको बता दें, जूही चावला का कहना था कि, कई रिसर्च में ये बात सामने आई है कि आरएफ रेडिएशन बेहद हानिकारक साबित हो सकता है. ये मनुष्यों के लिए सुरक्षित नहीं है. ऐसे में सरकार ये सुनिश्चित करे कि टेस्टिंग से किसी भी जीवों को किसी तरह का नुकसान नहीं होगा. रिसर्च के साथ जब तक प्रमाणित न हो जाए कि आरएफ रेज किसी को नुकसान नहीं पहुंचाएंगा तब तक भारत में इसके इस्तेमाल पर रोक लगानी चाहिए.

यह भी पढ़ेंः 90S में सलमान खान की आवाज बने एसपी बालासुब्रमण्यम से जुड़ी खास बातें