हैदराबाद, 26 मई (भाषा) तेलंगाना के जूनियर और सीनियर रेजीडेंट डॉक्टरों ने राज्य सरकार द्वारा किये गये वादे पूरा नहीं किये जाने के खिलाफ बुधवार को प्रदर्शन किया और (गैर-आपात) सेवाओं का बहिष्कार किया जबकि मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने उनसे कोविड-19 स्थिति के चलते हड़ताल वापस लेने को आह्वान किया ।

तेलंगाना जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन (टेजेयूडीए) ने पहले कहा था कि वह मानदेय में वृद्धि समेत अपनी मांगों को पूरा किये जाने की मांग करते हुए 26 मई से सेवाओं का बहिष्कार करेगा।

जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के एक प्रतिनिधि ने कहा कि संगठन ने आपात और आईसीयू ड्यूटी को छोड़कर अन्य स्थानों पर काम का बहिष्कार किया।

उन्होंने कहा कि एसोसिएशन ने 10 मई को ही हड़ताल का नोटिस दिया था लेकिन राज्य सरकार की ओर से कोई जवाब नहीं आया।

तत्काल ड्यूटी पर लौट आने की सलाह देते हुए मुख्यमंत्री ने एक बयान में कहा कि यदि जूनियर डॉक्टरों की मांगे उचित होंगी तो सरकार को उनका समाधान करने में कोई ऐतराज नहीं है लेकिन कोई भी इस महामारी के दौर में उनकी हड़ताल को सही ठहराएगा।

राव ने कहा कि सरकार ने जूनियर डॉक्टरों के साथ कभी कोई भेदभाव नहीं किया है और उनकी समस्याएं अतीत में भी हल की गयी हैं तथा सरकार उनकी वाजिब मांगों का अब भी निदान करने के लिए तैयार है।

बयान के अनुसार मुख्यमंत्री ने सीनियर रेजीडेंट के मानदेय में 15 फीसद वृद्धि करने और इसका स्नातोकोत्तर मेडिकल विद्यार्थियों तक विस्तार करने का फैसला किया है जो कोविड-19 ड्यूटी में तैनात हैं।