मध्य प्रदेश की कैबिनेट मंत्री इमरती देवी के खिलाफ पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के आइटम वाले बायान पर बीजेपी नेता और राज्यसभा के सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया भी धरने पर बैठे हैं. इंदौर में गांधी प्रतिमा पर उन्होंने मौन धरना दिया है जिनके साथ कुछ बीजेपी नेता भी मौजूद हैं. उन्होंने कमलनाथ के बयान को लेकर कहा कि ऐसे बयान महिलाओं और अनुसूचित जाति के खिलाफ कांग्रेस नेताओं की सोच दर्शाते है.

कांग्रेस नहीं करती महिलाओं की इज्जत

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, 'यह कांग्रेस का सिद्धांत है. पहले, दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस नेता मीनाक्षी नटराजन के बारे में कुछ कहा था, जो मुझे याद नहीं है. दलित समाज की नेता और सरपंच पद से शुरूआत कर अपनी अथक मेहनत से मंत्री बनीं इमरती देवी के लिए कमलनाथ कहते हैं कि वह आइटम हैं, जबकि अजय सिंह ने उन्हें 'जलेबी' कह चुके चुके हैं. कांग्रेस कभी भी महिलाओं का सम्मान नहीं करती.' उन्होंने कहा कि यह कांग्रेस की मानसिकता को प्रदर्शित करता है.

शिवराज बोले- यह मध्य प्रदेश की बेटियों का अपमान. इससे पहले शिवराज सिंह ने ट्वीट करते हुए कहा कि यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः, जहाँ नारी की पूजा होती है, वहीं देवताओं का वास होता है. मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कल एक महिला के लिए जिन शब्दों का इस्तेमाल किया, उससे मैं आहत हूँ, शर्मिंदा हूँ. आज बापू के चरणों में उनके लिए प्रायश्चित करने हेतु बैठा हूँ.

हम महात्मा गांधी को अपना आदर्श मानते हैं, वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस के नेता उनके विचारों और उनकी सीख की धज्जियाँ उड़ाते हैं.

कांग्रेस के नेताओं ने हमेशा अपने बयानों के माध्यम से अपनी महिला विरोधी सोच का परिचय दिया है. कमलनाथ जी के कारण पूरे देश में आज मध्यप्रदेश की बदनामी हुई है!