कानपुर मुठभेड़ में 8 पुलिसकर्मियों के शहीद होने के बाद पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के साथी दयाशंकर अग्निहोत्री को शनिवार रात को गिरफ्तार किया. पुलिस ने कानपुर के कल्याणपुर में पिछली रात एनकाउंटर के बाद अग्निहोत्री की गिरफ्तार किया. 

दयाशंकर अग्निहोत्री ने बताया, "पुलिस के गिरफ्तारी के लिए पहुंचने से पहले विकास दुबे को पुलिस स्टेशन से फोन आया था. इसके बाद उसने 25-30 लोगों को इकट्ठा किया. उसने पुलिसकर्मियों के ऊपर गोलियां चालाई. एनकाउंटर के समय मैं घर में कैद था इसलिए मैं कुछ देख नहीं पाया."    

अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए पुलिस हर जगह छानबीन कर रही है. इसी के चलते बहराइच से जुड़े नेपाल बॉर्डर पर भी दुबे की तस्वीर चिपकाई गई है. 

इससे पहले कानपुर एनकाउंटर मामले में मुख्य आरोपी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के घर को ध्वस्त कर दिया गया था. वहीं, मुठभेड़ में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद अब शक के घेरे में आए चौबेपुर के थानाध्यक्ष (SHO) विनय तिवारी को निलंबित कर दिया गया.

कानपुर के आईजी मोहित अग्रवाल ने बताया कि, 'थानाध्यक्ष विनय तिवारी के ऊपर लग रहे आरोपों के बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया है. इन आरोपों की जांच की गहन तरीके से जांच की जा रही है. अगर उनका या किसी भी पुलिसकर्मी का इस घटना से कोई संबंध निकला तो उसे न केवल बर्खास्त किया जाएगा बल्कि जेल भी भेजा जाएगा.'

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, कुछ पुलिसकर्मियों से पूछताछ की जा रही है, जिससे ये पता लगाया जा सके कि दुबे को उसके घर पर पुलिस की छापेमारी के बारे में पहले से कबर कैसे लगी.

विकास दुबे का घर ध्वस्त

विकास दुबे का घर जिला प्रशासन द्वारा ध्वस्त किया जा रहा है. इस बारे में पुलिस ने कहा, 'गांव के लोगों का कहना है कि दुबे ने दबंगई और गुंडागर्दी से लोगों की जमीन पर कब्जा किया था और लोगो से वसूली कर घर बनाया था. गांव में यह अपराध का गढ़ था जिससे गांव वालों में उसके प्रति बहुत गुस्सा था'.

उन्होंने बताया कि दुबे के परिवार वालों पर गांव के नाराज लोगों ने हमला भी किया था लेकिन पुलिस की मौजूदगी के कारण कोई हादसा नहीं हुआ.

पुलिस की 25 टीम कर रही है छापेमारी

आईजी मोहित अग्रवाल ने बताया कि, विकास दुबे और उसके सहयोगियों को पकड़ने के लिए पुलिस की 25 टीमें लगायी गई है. जो प्रदेश के विभिन्न जिलों के अलावा कुच दूसरे प्रदेशों में भी छापेमारी कर रही हैं. हालांकि, उन्होंने कहा कि यह नहीं बताया जा सकता कि पुलिस की टीमें किन-किन जनपदों में और किन प्रदेशों में तलाशी अभियान चला रही है.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि सर्विलांस टीम लगभग 500 मोबाइल फोन की छानबीन कर रही है और उससे विकास दुबे के बारे में सुराग लगाने का प्रयास कर रही है. इसके अलावा यूपी एसटीएफ की टीमें भी अपने काम में लगी हैं.

विकास दुबे पर 50 हजार का इनाम

आईजी ने बताया कि विकास दुबे पर इनाम की घोषणा की गई है. जो भी विकास दुबे के बारे में सही जानकारी देता है तो उसे 50 हजार रुपये का इनाम दिया जाएगा. उन्होंने कहा जानकारी देने वाले की पहचान गुप्त रखी जाएगी.

बता दें, 2 जुलाई की रात कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के गांव विकरू निवासी कुख्यात अपराधी विकास दुबे को उसके गांव में पकड़ने पहुंची पुलिस टीम पर हमला कर दिया गया था, जिसमें एक क्षेत्राधिकारी, एक थानाध्यक्ष समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए. इस मुठभेड में 5 पुलिसकर्मी, एक होमगार्ड और एक आम नागरिक भी घायल हुए थे.