देशभर में बाबा साहेब डॉ भीमराव अंबेडकर की जयंती मनायी जा रही है. 14 अप्रैल को बाबा साहेब की 130वीं जयंती मनायी जा रही है. इस मौके पर राजनीतिक पार्टियों से लेकर अलग-अलग समाज के लोग भी कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं. हालांकि, वर्तमान समय में बाबा साहेब के नाम क लेकर राजनीति खूब की जाती है. सभी नेता उनके विचारों को आगे बढ़ाने की बात करते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं उनके प्रेरणादायक विचार क्या थे.

यह भी पढ़ेंः जानें, पीएम मोदी ने डॉ बाबासाहेब अंबेडकर जयंती पर क्या कहा?

बाबा साहेब के 10 प्रेरणादायक विचार

1. बाबा साहेब का सबसे अहम विचार छुआछूत के खिलाफ था. वह इसका हमेशा से विरोध करते थे.

2. भीमराव अंबेडकर ने जीवन को लंबा बनाने के बजाए महान बनाने का विचार दिया.

3. वह कहते थे शिक्षित बनो, उत्तेजित बनो और संगठित रहो.

4. उनके विचार में धर्म मनुष्य के लिए है न कि मनुष्य धर्म के लिए.

5. बाबा साहेब का विचार था 'मैं ऐसे धर्म को मानता हूं जो स्वतंत्रता, समानता और भाईचारा सिखाए'.

6. उनका कहना था बुद्धि का विकास ही मनुष्य के अस्तित्व का अंतिम लक्ष्य होना चाहिए.

7. जो इतिहास को भूल जाते हैं वह कभी इतिहास नहीं बना सकते.

8. इतिहास में जब भी नैतिकता और अर्थशास्त्र के बीच संर्घष हुआ है तो जीत हमेशा अर्थशास्त्र की होती है.

9. जीवन में उदासीनता एक खराब बीमारी हो जो किसी को भी प्रभावित कर सकती है.

10. बाबा साहेब ने कहा था अगर संविधान का दुरुपयोग किया जा रहा तो मैं सबसे पहले इसे जलाउंगा.

यह भी पढ़ेंः UP: सीएम आदित्यनाथ ने खुद को आइसोलेट किया, अखिलेश यादव ने कराया कोरोना टेस्ट

आपको बता दें, डॉ भीमराव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को हुआ था. उन्हें लोग बाबा साहेब के नाम से जानते हैं. बाबा साहेब एक भारतीय राजनीतिज्ञ, न्यायविद और अर्थशास्त्री थे.