उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव के पहले चरण के तहत गुरूवार को 70 फीसदी से अधिक वोट पड़े. इन चुनावों को उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अहम् माना जा रहा है.

उत्तर प्रदेश के 18 जिलों में दो लाख 21 हजार से ज्यादा सीटों के लिए मतदान सुबह सात बजे शांतिपूर्ण ढंग से शुरू हुआ और 70 फीसदी से अधिक मतदान दर्ज किया गया.

शाम पांच बजे तक झांसी में सबसे ज्यादा 80 फीसदी जबकि श्रावस्ती में सबसे कम 64 फीसदी वोट पड़े. 

यह भी पढ़ेंः जान लें, किन-किन राज्यों में टाली गई है बोर्ड परीक्षाएं

आगरा दो मत पेटियां चोरी हुईं

आगरा में आगरा ग्रामीण क्षेत्र में चुनाव के दौरान रिहावली गांव से दो मत पेटियां चोरी हो गई. पुलिस अधीक्षक (पूर्वी) अशोक वेंकट ने बताया कि ग्राम प्रधान पद के दो उम्मीदवारों के समर्थकों के बीच हिंसक झड़प हो गई जिसके बाद दो मत पेटियां चोरी हो गईं. उन्होंने बताया कि इस झड़प में चार लोग जख्मी हो गए जिन्हें मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है.

आगरा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुनिराज जी. ने बताया इस हिंसक टकराव के मामले में अब तक 26 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और मामले की जांच की जा रही है. आगरा के जिलाधिकारी प्रभु नारायण सिंह ने कहा कि वह प्रभावित बूथ पर पुनर्मतदान के लिए आयोग से गुजारिश करेंगे.

यह भी पढ़ेंः Weekend Curfew in Delhi: जान लें दिल्ली में बंद और खुली सेवाओं की लिस्ट

18 जिलों की दो लाख 21000 से अधिक सीटों के लिए हुआ मतदान

पंचायत चुनाव के पहले चरण में जिला पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत वार्ड सदस्य की दो लाख 21000 से अधिक सीटों के लिए तीन लाख 33 हजार से ज्यादा उम्मीदवार मैदान में थे. चार चरणों में होने वाले चुनाव के पहले चरण में अयोध्या, आगरा, कानपुर, गाजियाबाद, गोरखपुर, जौनपुर, झांसी, प्रयागराज, बरेली, भदोही, महोबा, रामपुर, रायबरेली, श्रावस्ती, संत कबीर नगर, सहारनपुर, हरदोई और हाथरस जिलों में मतदान हुआ.

पहले चरण में जिला पंचायत सदस्य के 779 पदों के लिए 11442 प्रत्याशी, क्षेत्र पंचायत सदस्य के 19313 पदों के लिए 81747 उम्मीदवार, ग्राम प्रधान के 14789 पदों के लिए 114142 प्रत्याशी तथा ग्राम पंचायत वार्ड सदस्यों के 186583 पदों के लिए 126613 उम्मीदवार मैदान में थे. मतगणना आगामी दो मई को की जाएगी.

इस बार चुनाव मैदान में भाजपा, सपा और कांग्रेस के साथ-साथ, आम आदमी पार्टी, आजाद समाज पार्टी तथा असदुद्दीन ओवैसी की अगुवाई वाली ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन भी है. हालांकि, प्रत्याशी किसी पार्टी के चिन्ह पर चुनाव नहीं लड़ेंगे बल्कि उन्हें आयोग द्वारा स्वतंत्र चुनाव निशान दिए गए हैं.

यह भी पढ़ेंः दिल्ली के किस अस्पताल में कितने बेड खाली हैं? कैसे जानें

With PTI inputs